पुरानी यादें (FOLK MEMORIES)

पुरानी यादें  ( FOLK MEMORIES )

 ⏺ पुरानी यादें ,पोस्टों की एक नई श्रृंखला शुरु करने से पहले  दोस्तो.आपको याद दिला दूँ कि  पिछले कई दिनों से आपका मनोरंजन चुटकुलों द्वारा कर रहा था |
⏺मेरे सभी पोस्टों को आपने बेहद पसंद किया और अपार प्यार दिया |
इसके लिए मैं अपने सभी पाठक दोस्तों का शुक्रगुज़ार हूँ |
⏺दोस्तों, अब मैं अपनी कुछ पुरानी यादों को आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ |उम्मीद है कि आपको पसंद आयेंगी |
⏺आज से लगभग 20-25 वर्ष पहले जब मैं गर्मियों की छुट्टियाँ बिताने अपने गाँव आता था, तभी की ये यादें हैं |
⏺चूँकि हमारा संयुक्त परिवार था और चचेरे दादा, चाचा एवं भाइयों में काफी प्रेम था ,
तो शाम के समय लगभग 20-25 या अधिक लोगों की मंडली बैठ जाती थी |
⏺जिसमें विचारों का आदान – प्रदान, अटपटे सवाल, कहानियाँ ,पहेली आदि पूछे जाते थे |
और पुुुुरानी यादें शेेेेयर करतेे थेे |  
⏺इनसे हमारा मनोरंजन तो होता ही था साथ ही साथ मानसिक, बौद्धिक, तार्किक, चारित्रिक एवं सामाजिक गुणों का विकास भी होता था |
उन्हीं यादों को संग्रहित करके पोस्ट द्वारा आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ |
मेरे द्वारा कही गई कहानी ——-
⏺एक राजकुमारी का ब्याह राजकुमार से होता है |
राजकुमार अपनी दुल्हन को लेकर बारात एवं सैनिकों के साथ अपने राज्य की ओर चल देता है |
⏺रास्ते में एक घना जंगल पड़ता है |जब बारातियों का कारवाँ जंगल से गुजर रहा था तभी अचानक डाकुओं ने हमला बोल दिया |
⏺डाकू और बारातियों के बीच युद्ध होता है जिसमें दोनों पक्ष के कई लोग मारे जाते हैं |
⏺युद्ध में राजकुमार का सिर भी काट दिया जाता है |बचे हुए डाकू गहने – जेवर, हथियार लूटकर भाग जाते हैं |
⏺युद्ध समाप्त होने पर राजकुमारी पालकी से निकलकर देखती है
कि उसका पति मर चुका है |वह जोर – जोर से रोने लगती है |
⏺राजकुमारी माँ दुर्गा की उपासक थी |उसने माँ दुर्गा से प्रार्थना किया –
” हे माँ ¡ मेंने आज तक तुमसे कुछ नहीं माँगा है, पहली और आखिरी बार माँग रही हूँ – मेरे पति को जीवित कर दीजिए |”
⏺माँ दुर्गा अपने भक्त को रोते हुए नहीं देख सकी और प्रकट होकर बोली –
” बेटी ! अपने पति का सिर व धड़ को मिला दो वह जीवित हो जाएगा | “
⏺राजकुमारी ने ऐसा ही किया |अगले ही क्षण राजकुमार जीवित हो गया |
⏺परंतु दोस्तो राजकुमारी से एक गलती हो गई |
उसने राजकुमार के सिर को मंत्रीपुत्र के धड़ के साथ जोड़ दिया और मंत्रीपुत्र के सिर को राजकुमार के धड़ के साथ जोड़ दिया |
राजकुमारी के सामने दोनों जीवित खड़े थे |
⏺अब राजकुमारी के सामने एक विचित्र समस्या उत्पन्न हो गई थी कि वह किसे अपना पति स्वीकार करे ?
सिर वाले राजकुमार को या धड़ वाले राजकुमार को |
⏺दोस्तो, राजकुमारी की समस्या का हल अब आपको बताना है |
यदि आप राजकुमारी की जगह होते तो किसे अपना पति मानते और क्यों ?
जवाब कमेंटस में लिखकर बतायें | कमेंटस में 100 जवाब.आने पर अगले पोस्ट में बताऊँगा कि राजकुमारी ने किसे और क्यों अपना पति माना ?

 

 

आपका ——–प्रमोद कुमार 

03042018

अन्य पोस्ट —–
1.  विश्व की अजीबोगरीब महिलाएँ
2.  चुटकुले का संसार ( JOKES)
3.  JOKES ( जोक्स ) हँसी का खजाना
4.  चुटकुले ही चुटकुले ( JOKES )
5.  नॉर्थ कोरिया के अजीबोगरीब कानून

http://miracleindia11.blogspot.com/2017/10/blog-post_24.html?m=1

 

 

 

 

 

 

 

About PRAMOD KUMAR

मेंने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन राजस्थान में कम्पलीट किया |इसके बाद B. Ed कर्नाटक से किया | लेखन की चाह बचपन से ही थी, कॉलेज आते आते इसमें कुछ निखार आ गया |कॉलेज में यह स्थिति थी कि यदि कोई निबंध प्रतियोगिता होती और उसमें मेरे शामिल हो जाने से प्रतियोगिता दूसरे और तीसरे स्थान के लिए रह जाता | वापस राजस्थान आने पर अपना विद्यालय खोला ,सरकारी शिक्षक बनकर त्याग पत्र दे दिया |बिजनेस में एक सम्मानित ऊँचाई को पाकर धरातल पर आ गया |अब अपने जन्म स्थल पर कर्म कर रहा हूँ, जहाँ शिक्षा देना प्रमुख कर्म है | बचे समय में लिखने का अपना शौक पुरा करता हूँ |

View all posts by PRAMOD KUMAR →

13 Comments on “पुरानी यादें (FOLK MEMORIES)”

    1. पोस्ट ” पुरानी यादें ” में आपने राजकुमारी द्वारा धड़ वाले राजकुमार को चुनना सुझाया था जो कि

      1. गलत है |राजकुमारी को सिर वाले राजकुमार को चुनना चाहिए क्योंकि हमारी सोच, क्रियाकलाप, मानसिकता, व्यवहार सभी कुछ मस्तिष्क द्वारा नियंत्रित होता है |
        एक अन्य उदाहरण से इसे समझते हैं |रामायण में जब लक्ष्मण ने मेघनाद का सिर काट दिया था तो मेघनाद की पत्नी सुलोचना ने रामादल से शीश की माँग की थी |अतः स्त्री के जीवन में पुरुष के सिर का अधिक महत्व होता है न कि धड़ का |

  1. पोस्ट को बेहतरीन अंदाज में पेश किया |
    मेरे विचार से इंसान चेहरे को देखकर प्रेम करता है.

  2. क्या बात है सर गजब है आइडिया गजब है लिखने की अदा
    धन्यवाद

  3. राजकुमार के कपडे़ अलग होते हैं।मंत्री के कपडे़ अलग। इसलिए ऐसी भारी गलती नहीं हो सकती।

    1. नहीं सर, राजकुमारी से ये गलती हो चुकी है और दोनों अब जीवित हैं |इन दोनों में से एक को राजकुमारी अपना पति चुनती है |वही बताना है कि पति सिर वाले राजकुमार को चुनी या धड़ वाले राजकुमार को ?

  4. प्रमोद कुमार जी आपकी पोस्ट बहुत अच्छी है । आपने भारत बंद पोस्ट मैं कमेंट में लिखा था पुरानी यादें पोस्ट को पढ़कर कमेंट लिखें लेकिन आपकी पोस्ट को पहले ही पढ़ लिया और लाइक भी किया था

  5. कहानी में कपड़े नहीं देखे जाते ।
    सिर वाले को अपना पति मानना चाहिए क्योंकि पति पत्नि या कोई भी रिश्ता शरीर से नहीं दिमाग से होना जरूरी है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *