ट्राई और जियो की टक्कर

ट्राई और जियो की टक्कर

ट्राई और जियो की टक्कर……दोस्तों नमस्कार मैं देव साहू आज आपके लिए एक और नई पोस्ट लेकर आया हूं। 

जिसमें मैं आपको ट्राई और जियो की टक्कर के बारे में बताने वाला हूं।आपको पता होगा हाल ही में ट्राई ने कुछ आदेश दिए थे।

जिसकी वजह से जियो को अपनी कोछ फ्री सर्विस को  हो बंद करना पड़ा है

अगर आप चाहें तो इस सेवा को लगातार उपयोग  कर सकते हैं।

इसके लिए याचिका दायर की जा चुकी है। जिसमें ट्राई अपने इस फैसले को वापस लेने है।

चलिए हम आपको बताते हैं। इसकी पूरी जानकारी

 

टेली काम  रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया के निर्देश के बाद रिलायंस जिओ को अपने समर सरप्राइज ऑफर को वापस लेने की घोषणा करनी पड़ी। 

जिसके बाद कुछ ग्राहक ना खुस हो सो गए । 

ऐसे ही एक टैक्स एक्टिविस्ट जिसका नाम अमित भवानी है 

 किफ़ायती इंटरनेट सेवा की मांग करते हुए बदलाव में याचिका दायर की है । 

भारतके आम आदमियों के लिए किफायती इंटरनेट सेवा की मांग की है।

यह याचिका बहुत ही कम समय में लोगों के बीच  viral  हो गई है।

और इसे लोगों का समर्थन भी मिलने लगा है।इसे अब तक लाखों लोगों का समर्थन मिल चुका है

और उम्मीद है आगे भी लाखों लोगों का समर्थन और मिलेगा। 

 

किस – किस  को  लिखा गया लेटर

 

किस – किस  को लेटर लिखा गया है :-

 ट्राई, अपने प्रधानमंत्री ऑफिस, डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकॉम यानी डॉट और संचार मंत्री मनोज सिन्हा को बदलाव के लिए लेटर में लिखा है ।

ट्राई जिसको उपभोक्ताओं   के लिए काम करना चाहिए।

इसने आज मुझे निराश किया है। बजाएं की ऐसी स्कीम को शरण देने के यानी बचाने के लिए।

भारतीयों  को RS 5/GB के दर से इंटरनेट उपलब्ध करा रहा था। उस समर सरप्राइजस ऑफर को बंद करा दिया।

और किफायती दामों पर मिलने वाले इंटरनेट सेवाओं को हमेशा के लिए बंद करवा दिए है।

दुनिया का सबसे बड़ा मोबाइल उपभोकता देश है।

और इसके लिए सस्ते इंटरनेट का होना बहुत जरूरी है। हम आपको बता दें यह याचिका सभी विरोधी कंपनियों के खिलाफ है। 

एक तरह से इसके  लिए आपका सपोर्ट बहुत ही ज्यादा जरूरी है

क्योंकि अकेले अमित इस बदलाव को नहीं कर सकते हैं वह आपसे सपोर्ट की मांग कर रहे हैं।

और आप इसे कैसे सपोर्ट कर सकते हैं

उसके लिए आपको इस पोस्ट को लाइक करना है और अपने  Facebook  पर शेयर करना है  जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट के साथ जुड़े सके

आपको बताते हैं अमित  ने  टेलीकॉम कंपनियों पर आरोप लगाते हुए कहा है।

एक कंपनी या जान बूझकर आर्टिफीसियल तरीके से डेटा के दाम बढ़ा कर रखी हुई थी।

जो जियो के आने के बाद से इन्हें प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ा।

और कीमत गिरने लगी कीमत घटने से ग्राहकों को फायदा हुआ है और पहले की तुलना में ज्यादा ऑनलाइन हैं।

भारतीयों के लिए फ्री डाटा किसी से कम नहीं है यानी भारत के लोगों के लिए सबसे बड़ी खुशी मिलता है।

 

अमित ने आगे बताया है कि आज तक किसी भी ऐसे कंपनी के सपोर्ट में है जो ग्राहकों को सस्ते दर पर इंटरनेट मुहया करा सके।

उन्होंने इसके लिए ट्राई और डॉट से मदद मांगी है और अपने सभी भारतीय उसको अपील की है।

कि वह इस याचिका को ज्यादा से ज्यादा सपोर्ट करें ज्यादा से ज्यादा लोग सपोर्ट करेंगे। तो उनका फैसला जरूर बदल जाएगा।

 

“धन्यवाद”

 

लेखक    Dev Sahu

Follow Google +    Click Now

4 Comments on “ट्राई और जियो की टक्कर”

  1. इंटरनेट की आम आदमी तक पहुँच तभी सम्भव है जब यह किफायती और सस्ती दर पर उपलब्ध हो |केवल जियो की बदौलत हम आज इंटरनेट का सही और पर्याप्त उपयोग कर पा रहे हैं |इसलिए जियो द्वारा प्रदत्त सेवाएँ जो ग्राहक हितकारी हैं सरकार द्वारा बंद नहीं होना चाहिए |
    दूसरी बात सर, मैने 03-04-2018 को एक पोस्ट पब्लिश किया है ” पुरानी यादें “|इस पोस्ट को पढ़कर अपने विचार बतायें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *