कमला देवी चट्टोपाध्याय, एक स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक

कमला देवी चट्टोपाध्याय, एक स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक

 

 

कमला देवी चट्टोपाध्याय: जी हाँ दोस्तो हम बात करते हैं कमला देवी चट्टोपाध्याय की जो स्वतंत्रता सेनानी और समाज
सुधारक थीं। नारी आंदोलन मेें अग्रणी भूमिका निभाने वाली,हस्त कला को प्रोत्साहन देने वालीं और न जाने कितना देश के
लिए योगदान दिया,तो आइए इनके बारे मेें विस्तार से जानने की कोशिश करते हैैं।         
 

  (1) पारिवारिक जीवन:-

 कमला देेेवी चट्टोपाध्ययाय का जन्म मंगलौर (कर्नाटक) के एक सम्पन्न परिवार में 3 अप्रैल सन् 1903 को हुुआ। ये अपने
माता -पिता की सबसे छोटी संतान थीं। इनके पिता का नाम अनंथाया,जो धारेश्वर,मंगलॉर में डी०एम० के पद पर थे। इनकी
माँ का नाम गिरिजा बाई था,जो एक निडर,संंस्कारों से परिपूर्ण और शिक्षित थीं। इनकी दादी प्राचीन भारतीय दर्शन की वेेेत्ता
थीं। इतने अच्छे परिवार से ताल्लुक रखने के बाबजूूूद कमला देेेवी चट्टोपाध्याय के अंदर स्वाावलंवन कूट-कूूूट कर भरा हुुुआ
था,जो आगे चलकर इनके जीवन में काफी काम आया।इन्होंने बेडफोर्ड कॉलेज(लंदन यूनिवर्सिटी) से समाज शास्त्र में
डिप्लोमा लिया हुआ था।

 

 

 

(2) प्रारंभिक जीवन:-

 जब कमला देेेवी चट्टोपाध्याय 7 वर्ष की थीं,तो इनके पिता का देेहांत हो गया। इनका विवाह 12 वर्ष की उम्र में कृष्णा राव के
साथ सन् 1917 मेें हो गया अर्थात् इन्हें बाल विवाह का शिकार होना पडा़,लेेेकिन दुुर्भाग्य से 2 वर्ष केबाद ही सन् 1917 में
इनके पति का देहावसान हो गया।इसके बाद सन् 1919 में सरोजिनी नायडू के छोटे भाई हरेेेन्द्र नाथ के साथ दुबारा विवाह
कर लिया। इस बात से इनको रिश्तेदारोंं का काफी विरोध का सामना करना पडा़, क्योंकि वे अन्तर्जातीय विवाह के समर्थक
नहींं थेे। कुछ दिनोंं के बाद कमला देेेवी चट्टोपाध्याय अपने पति हरेन्द्र नाथ केे साथ लंदन  जा बसीं। इन दोनों केेे विचारों में
काफी विरोधावास था,इसलिए इनका लंबेे समय तक सम्बन्ध न चल पायाऔर अन्त मेंं तलाक हो गया,लेकिन इसी बीच
उन्हें एक पुत्र की प्राप्ति हुई,जिसका नाम राम कृष्ण चट्टोपाध्याय था। 29अक्टूबर सन् 1988 में इनका देहावसान हो गया।

 

 

कमलादेवी चट्टोपाध्याय,एक स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक

 

 

(3) महिला आंंदोलन में रहीं सबसे आगे:-

 कमला देवी चट्टोपाध्याय ने ऑल इंंडिया वीमेंंस कांफ्रेंंस की स्थापना की।इन्होंंने गाँँधी जी के साथ असहयोग आँँदोलन व
नमक आँँदोलन मेंं बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। सन् 1920 में इन्होंने राजनीतिक  चुुनाव भी लडा़। नमक आँदोलन तोड़ने के
आरोप मेंं गिरफ्तार होने वालीं ये पहली महिला थीं।स्वतंत्रता आँदोलन के दौरान इनको 4 बार जेेेल जाना पडा़। पााँच साल
इनको जेल मेें बिताने पड़े।

 

 

कमलादेवी चट्टोपाध्याय,एक स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक

 

(4) हथकरघा तथा हस्त शिल्पकला मेें इनकी भूमिका:-

 कमला देवी चट्टोपाध्याय ने हथकरघा तथा हस्तशिल्प कला में बहुत  महत्वपूूर्ण कार्य किया। ये हस्तशिल्प तथा हथकरघा
कला को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने वाली प्रथम महिला थीं। सन् 1952 में ऑल इंंडिया हैंडीक्राफ्ट के प्रमुुुख के
तौर पर इन्हें नियुक्ति मिली। इन्होंने गाँव- गाँव घूमकर हथकरघाऔर हस्तशिल्प कलाओं को संंग्रहित किया और
जुलाहों,बुुुनकरों हस्त शिल्पिओं आदि अनेक लोगों की स्थिति सुुुधारने में कोई कसर नहीं छोडी़। बाद में इनको हथकरघा माँ
का दर्जा भी मिला।

 

 

कमलादेवी चट्टोपाध्याय,एक स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक

 

 

(5) आर्थिक और साांस्कृृृतिक संस्थाओं में इनकी भूमिका:-

 आज अनेक सांस्कृतिक और आर्थिक संस्थान संचालित हैं जैसे:- क्राफ्ट कोंसिल ऑफ इंडिया, सेन्ट्रल कॉटेज इंड्रस्ट्रीज
ऐम्पोरियम ,संगीत नाटक अकादमी,नेशनल स्कूल कॉलेज ऑफ ड्रामा इत्यादि। अगर कमला देेवी चट्टोपाध्याय ने संघर्ष न
किया होता,तो आज ये संस्थान हमें देखनेे को न मिलते।
 

(6) निम्न पुुुरुुुस्कारों व सम्मानों द्वारा पुरुस्कृृृत:-

  (a) पद्म भुषण————सन् 1955                                                                                                                                                                 
  (b) पद्म विभूषण———सन्1987                                                                                                                                                               
  (c) रेेमन मैग्सेसे पुरुस्कार–सन्1966                                                                                                                                                 
  (d) लाइफ टाइम एचीवमेंट पुुरुस्कार-1974                                                                                                                                 
  (e) यूनेस्को द्वारा प्रदत् पुरुस्कार-सन् 1977                                                                                                                                 
   (f) फैलोशिप और रत्न सदस्य-संंगीत नाटक अकादमी द्वारा                                                                                                             
   (g) देेेसिकोट्टम पुरुस्कार- शांंति निकेतन द्वारा   
   

(7) इनके द्ववारा लिखित पुस्तकें:-

                                                                                                                                                                 (a) टुवर्ड्स ए नेशनल थिएटर                                                                                                                                                                         
(b) द अवेकिंग ऑफ इंडियन वूमेेन                                                                                                                                                                   
(c) अंंकल सैम्पायर                                                                                                                                                                                           
(d) इन वार टॉर्न चाइना                                                                                                                                                                                         
(e) जापान इट्स वीकनैस एंंड स्ट्रैैंथ
तो दोस्तो ये जीवनी आपको कैैसी लगी ? कमेंंट और शेयर अवश्य करें।                                                                                                                                                                                                                                            धन्यवाद                                                                                                                                                                                                       
  लेखक                                                                                                                                                                                                       
 अखिलेश कुमार नागर।                                                                                                                                                                                       
 आगरा,उ० प्र०
 

6 Comments on “कमला देवी चट्टोपाध्याय, एक स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *