आरक्षण एक बडा मुद्दा??

आरक्षण एक बडा मुद्दा??

💟नमस्कार दोस्तो, आज मै एक ऐसे मुद्दे पर बात करने वाली हूं। जिस पर आज कल हडताल दंगे व प्रदर्शन चल रहे ।💖

💕”हमारे देश मे आरक्षण एक बडा मुद्दा है।, ऐसा नही है कि ये अभी शुरू हुआ है।💕

💝आरक्षण आजादी से पहले भी हमारे देश मे चलता था।फर्क सिर्फ इतना है।, कि उस समय यह बडी जाति व समुदाय को मिलता था।”💕

💚आरक्षण क्या है।????💚

✍”आरक्षण एक कोटा होता है।, जिस से अनुसुचित जाति/ अनुसुचित जनजाति के लोगो को फायदा मिलता है।”✍

💞पूर्व की स्थिति💞-

❣”पूर्व मे जाति, धर्म व समुदाय के आधार पर बडी जाति के लोग, छोटी जाति के लोगो का शोषण किया करते थे।💌
💛उन्हे किसी के साथ बैठने व बात करने तक का अधिकार नही था, जाति के आधार चार वर्गो मे बांटा गया था।”💛

1.बाह्मण💝

2.  क्षत्रिय💗

3.वैश्य💚

4.शूद्र💕

💝”ये चार समुदाय के लोग थे , जिन्हे अपने काम के आधार पर बांटा हुआ था।”💟
✌”बाह्मण का बेटा बाह्मण व वैश्य का बेटा वैश्य होगा ऐसा नियम बनाया हुआ था।🖓
🖓शूद्र के साथ अच्छा व्यवहार नही किया जाता था। उनके बैठने, पढने व पानी पिने की भी जगह निश्चित थी।उन्हे अपनी मर्जी से कुछ काम करने का अधिकार नही था।”👎
👍”इसलिए डाॅ भीमराव अंबेडकर ने दलितो की स्थिति सुधारने के लिए आरक्षण शुरू किया जिस से समाज मे उनकी स्थिति सुधर सके।👍
👍उनको समान दर्जा मिल सके। इसलिए आरक्षण की जरूरत पडी।”👏

💕वर्तमान स्थिति💕-

💚वर्तमान मे स्थिति कुछ अलग है। आज दलितो की स्थिति बेहतर है। आज दलित बडे पदो पर विराजमान है💚
💝”जहाॅ जनरल के बच्चे को 104   अंको पर नोकरी नही मिलती है। वही आरक्षण की वजह से दलित के बच्चे को 44 पर” ias” बना दिया जाता है।”💝
💟”आरक्षण व्यवस्था ऐसी होनी चाहिए जिस से सभी वर्गो को समान अधिकार मिल सके।💙
💚सरकार को ऐसे ही नियम बनाने चाहिए , जिस से किसी वर्ग को नुकसान ना हो।”
“आपको यह जानकारी कैसी लगी मुझे comment  करके जरूर बताये।💚”
धन्यवाद
लेखक-💝 रविना आर्य❣

 

7 Comments on “आरक्षण एक बडा मुद्दा??”

  1. रविना आपका लेख अच्छा है और इसमें दिया गया सुझाव भी उत्तम है, पर हमारे देश में विकास को नहीं वोटों की राजनीति को अधिक महत्व दिया जाता है |

  2. रविना जी आपका लेख अच्छा है और इसमें दिया गया सुझाव भी उत्तम है, पर हमारे देश में विकास को नहीं वोटों की राजनीति को अधिक महत्व दिया जाता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *