लाडो ना आना इस देश part-2

लाडो बेटियां “लाडो ना आना इस देश, भाग – 1” में  दोस्तों  मैंने आपसे कहा था कि मुझे इन चार पंक्तियों में सारी समस्याओं का समाधान मिल गया। बाद में एक सवाल उठा – “सीमा में ही रहे सुरक्षित “फिर वही बात “आजादी ” फिर कहां जिसकी हम बात करते हैं। लाडो (बेटियों) और बच्चों को freedom  और  space देना चाहिए। हमारी लाडो बेटियां मॉडर्न और बोल्ड हों।

1-freedom (आजादी) बेटे हों या बेटियां दोंनो को मिलनी चाहिए। अपने विचारों को व्यक्त करने की। अपनी शर्तों पर आत्म सम्मान के साथ जीने की। ये सब अपने बच्चों को एक मां ही सीखाती है। अपने ममता भरे संरक्षण में ही सम्भव है।
2- आधुनिकता को अपनायें, आज के समय के साथ मिलकर चलिए। पर आधुनिकता का मतलब भोंडापन नहीं है। शालीनता और आत्मनियंत्रण के साथ अपने सामाजिक परिवेश को ध्यान में रखते हुए माॅडर्न और बोल्ड बनिये। अपने और अपने आसपास के लोगों की सोच में आधुनिकता लाऐं।

हम जानते हैं कि हमारा समाज पुरूष प्रधान है। तो क्या हम स्त्रियाँ अपना अस्तित्व ही खो दें।

*स्त्री ही एक पुरूष का निर्माण करती है।  चाहे उसका चरित्र हो, या उसका अस्तित्व।
नारी में वो शक्ति है जो एक ऐसे समाज का निर्माण कर सकती है। जिसमें कोई कुरीति,  गलत धारणाऐं आदि न हों।
*स्त्री ही समाज को संस्कारित कर सकती है *
* इसके लिए बेटियों का पढाना आवश्यक है। कहा जाता है कि एक कन्या दो घरों की लाज (इज्जत) रखती है। बेटियाँ शिक्षित होंगी। संस्कारित होंगी। तभी  तो वे अपने बच्चों को और कहीं हद तक अपने पति और परिवार को भी संस्कारों में बाँध पायेंगी।
* लाडो बेटियों को आत्मनिर्भर बनाऐं। ना कि उन्हें ये कहें कि वे तो दूसरे घर की अमानत हैं।
* लाडो बेटियों को बचपन से ही आत्मसम्मान की रक्षा करना सिखाऐं। और आत्मनियंत्रण की शिक्षा दें।
*उन्हें उच्च संस्कार दें।

****बेटियों को गलत और सही क्या है। समझाऐं। किससे कैसे बात करनी है। और पहली बार में ही किसी की बदतमीजी का कड़ा विरोध करें, डरें ना। फिर चाहे वो कोई भी हो।
**बेटियों को लड़की कहकर कमजोर नहीं बनाऐं। उन्हें सशक्त बनाऐं। उन्हें बताऐं कि  तुम कितनी महत्वपूर्ण हो। इस प्रकृति में सबसे अनमोल हो।
दोस्तों – तो फिर शायद ही कोई माँ अपनी अजन्मी लाडो से कभी ना कहेगी  “लाडो ना आना इस देश”
अगर आप मेरे विचारों से थोड़ा सा भी सहमत हों तो कृपया मुझे अवश्य बताऐं। और ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।
धन्यवाद..
ये पढें—
लाडो – ना आना इस देश part-1

 

About Anamika sharma

I am a housewife

View all posts by Anamika sharma →

3 Comments on “लाडो ना आना इस देश part-2”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *