15 अप्रेल तक दिल्‍ली में आयेगा भूकम्‍प और दिल्‍ली हो जायेगी तबाह

15  अप्रेल तक दिल्‍ली में आयेगा भूकम्‍प और दिल्‍ली हो जायेगी तबाह

15 अप्रेल तक  दिल्‍ली में आयेगा भूकम्‍प और दिल्‍ली हो जायेगी तबाह अमेरिका की ऐजेन्‍सी नासा ने दिल्‍ली में आने वाले भूकम्‍प के बारे में बताया है।  कि 15 अप्रेल तक दिल्‍ली में भारत का सबसे बडा भूकम्‍प आयेगा जिससे दिल्‍ली में रहने वालों को अपने जान से हाथ तक धो सकते हैं। ये जानकारी नासा ने दी हैं।

नासा के मुताबिक ये भूकम्‍प विश्‍व दुसरी बार आयेगा।

जिससे लाखों लोगों की जाने जायेगी ।

वायरल मैसेज में दिल्ली छोड़ने की   भी सलाह दी जा रही है।

और एक सप्‍ताह के अन्‍दर दिल्‍ली छोडने को बता रहा है।

रियेक्‍टर के पैमाने पर 9.1  के  तीव्रता से  ये भूकम्‍प आयेगा ये 15 अप्रेल तक कभी आ सकता है ।

इसका असर भारत के कई राज्‍यों में होगा इसका केन्‍द्र बिन्‍दु दिल्‍ली के पास गुरूग्राम होगा।

इसके आस- पास के राज्‍य जैसे हरियाण, पंजाब,  जम्‍बू कशमीर आदि कई शहरों होगा।

ये जानकारी फेक है

क्‍योकि नासा की वेबसाइड www. nasa. gov है।

इसके साथ ही नासा की आधिकारिक वेबसाइट   पर ऐसे किसी  भूकंप की कोई जानकारी नहीं दी गई है।

जिस पर ये जानकरी नही दी गई है। वो वेबसाइड है www.nasaalert.com  है,  जिसके मुताविक ये जानकरी फेक है।

इस वेबसाइड पर जब क्लिक करते है तो ये साइड खुलती नही है।

वैज्ञानिक के मुताबिक साफ किया कि अभी तक ऐसी कोई तकनीक नहीं आई है।

जो भूकंप के पहले उसकी तीव्रता, केंद्र और समय के बारे में बता सके।

तो आप पहले इसकी जानकारी करें उसके बाद  दूसरे को फॉरवर्ड करें।

                 

                       मै भूपेश कुमार मैं आपको बताना चाहिता हूॅ, कि अगर येसी कोई भी जानकारी या एस एम एस या इस तरह के वाट्सएप या अन्‍य कोई  सोशल साइड से आप के पास वीडियों  भेजता है, तो उस पर  आपको पहले सही जानकारी कर लेनी चाहिऐ।

नोट – नीचे दिये गये  टाइटल की जानकारी के लिये उस टाइटल पर क्लिक करें।

धन्‍यवाद

                                                                                                                                                                          लेखक भूपेश कुमार

 

One Comment on “15 अप्रेल तक दिल्‍ली में आयेगा भूकम्‍प और दिल्‍ली हो जायेगी तबाह”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *