उत्तर प्रदेश पीसीएस परीक्षा में बड़े बदलाव

उत्तर प्रदेश पीसीएस      परीक्षा में बदलाव

उत्तर प्रदेश पीसीएस परीक्षा में बदलाव का अर्थ यह है कि ,

इस सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा में कुछ  अहम बदलाव किए गए हैं ।

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग देश का सबसे प्रतिष्ठित राज्य सेवा परीक्षा आयोग रहा है।

इसने सदैव अपनी पहचान संघ लोक सेवा आयोग के समानांतर रखी है ।

इसी क्रम में इसने उत्तर प्रदेश पीसीएस परीक्षा 2018  में  काफी बड़े बदलावों को अंजाम दिया है ।

खास बात यह है कि इन अहम बदलावों का मकसद संघ लोक सेवा आयोग के अनुरूप खुद को स्थापित करना है ।

साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षार्थियों को एक समान तैयारी करने के लिए मौका देना भी इसका खास मकसद है ।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने जितने भी अहम बदलाव किए  हैं वे सब पीसीएस परीक्षा 2018 से लागू हैं।

क्या और कौन-कौन से हुए हैं बदलाव

योगी आदित्य नाथ सरकार ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की ,

राज्य प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा 2018 की तैयारी कर रहे छात्रों को मन की मुराद प्रदान करते हुए,

इस परीक्षा में काफी बदलावों को अंजाम दिया है ।

ताकि परीक्षा को उनके अनुकूल बनाया जा सके जो सच्चे हैं,

अच्छे हैं लेकिन भष्टाचार की मार झेल कर सबसे पीछे रहने को मजबूर हैं ।

इसे एक बड़ा कदम कहा जा सकता है ।

सरकार ने जो मुख्य बदलाव किए हैं वह इस तरह हैं :

■ मुख्य परीक्षा में सामान्य अध्ययन के 200/200 अंक के  दो पेपर होते थे ,जो अब दो की जगह 200/200 अंकों के कुल 4 पेपर होंगे ।

■ध्यान रहे जी एस के जो पेपर वैकल्पिक या वस्तुनिष्ठ थे अब विस्तृत उततरीय होंगे ।यानी थ्योरिकल होंगे ।

अब केवल टिक नहीं लगाना बल्कि सवाल का जवाब विस्तार से अपने शब्दों में लिखना है ।

अब सामान्य अध्ययन के कुल अंक 400 अंक की बजाय 800 होंगे ।

■अभी तक दो वैकल्पिक विषय थे और दोनों के लिए दो दो सौ अंक के दो-दो पेपर होते थे ।

अब इसमें बदलाव यह हुआ है कि अब दो की बजाय केवल एक वैकल्पिक विषय होगा ।

और इसके केवल दो पेपर ही होंगे ।

यानी वैकल्पिक में 800 की बजाय केवल 400 अंक की परीक्षा होगी ।

■एक और खास बदलाव यह हुआ है कि वैकल्पिक विषय के रूप में एक  विषय चिकित्सा विज्ञान भी जोड़ा गया है ।

■जो सबसे खास परिवर्तन हुआ है वह है इंटरव्यू के लिए निर्धारित 200 अंक की जगह केवल 100 अंक ।

यह परिवर्तन वास्तव में पारदर्शिता के लिए किया गया है ।

■निष्कर्ष के तौर पर यह भी कहा जा सकता है कि 1700 अंकों की इस परीक्षा में अब केवल 1600 अंक रखे गए हैं ।

परिवर्तन के पहले और परिवर्तन के बाद 

पीसीएस उत्तर प्रदेश की मुख्य  परीक्षा  में जो बड़े परिवर्तन हुए हैं ,

उन्हें पहले और आज की स्थिति में यदि तुलना करके देखा जाए तो जो स्थिति बनेगी वह इस प्रकार है :

■बदलाव के पूर्व पीसीएस उत्तर प्रदेश मुख्य परीक्षा की स्थिति :

– कुल अंक :1700

-कुल सामान्य अध्ययन पेपर :2

-कुल वैकल्पिक विषय -2

-कुल शैक्षणिक विषय पेपर :4

-कुल साक्षात्कार अंक :200

-कुल हिन्दी प्रश्न पत्र अंक : 150

-कुल निबंध अंक :150

■बदलाव के बाद वर्तमान स्थिति

-कुल हिन्दी प्रश्न  पत्र अंक :150

-कुल निबंध प्रश्न पत्र अंक :150

-कुल वैकल्पिक विषय :1

-कुल वैकल्पिक प्रश्न पत्र :दो  

-कुल वैकल्पिक विषय अंक :400

-कुल सामान्य अध्ययन पेपर :4

-कुल सामान्य अध्ययन अंक :800

– कुल साक्षात्कार अंक :100 

●परीक्षा पास करें मगर कैसे 

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित पीसीएस परीक्षा 2018 को यदि ,

आप पास करना चाहते हैं तो आप इतना जानिए कि,

यह परीक्षा केवल हार्ड वर्क से नहीं पास की जा सकती ।

एक विद्वान टाइप  के आदमी ने एक बार लिखा था ,

कि किसी परीक्षा को पास करने के लिए टिप्स नहीं मेहनत चाहिए।

तो जो लोग इस महाशय की बात पर यकीन रखते हों ,

तो सावधान हो जाइए क्यों कि आज का जमाना हार्ड वर्क के साथ-साथ स्मार्ट वर्क का भी है ।

■By:KPSINGH■

            ●●●

 

 

 

         

About KPSINGH

मैने बचपन से निकल कर जीवन की राहों में आने के बाद सिर्फ यही सीखा है कि "जंग जारी रहनी चाहिए जीत मिले या सीख दोनों अनमोल हैं" मैं परास्नातक समाज शास्त्र की डिग्री लेने के अलावा CTET और UP TET परीक्षाएं पास की हैं ।मैंने देश के हिन्दी राष्ट्रीय समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लेखन किया है जैसे प्रतियोगिता दर्पण विज्ञान प्रगति आदि ।

View all posts by KPSINGH →

2 Comments on “उत्तर प्रदेश पीसीएस परीक्षा में बड़े बदलाव”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *