किन्नर का अंतिम संस्कार कैसे होता है

किन्नर का अंतिम संस्कार कैसे होता है

किन्नर समाज हमारे बीच का ही एक समुदाय है, जिसके रीति – रिवाज ,परम्पराएँ आदि सबकुछ आम लोगों से अलग होते हैं |
इनके बारे में माना जाता है कि ये हर तरह की बात आसानी से और बेबाक कर लेते हैं |
ये हाजिरजवाबी होते हैं और हर बात का तुरंत जवाब देते हैं ,
परन्तु एक प्रश्न का जवाब ये कभी नहीं देते हैं कि इनका अंतिम संस्कार कैसे किया जाता है |
आखिर क्या वजह है जो ये अपने अंतिम संस्कार की प्रक्रिया को राज रखते हैं |
 
आज हम किन्नर समाज से जुड़े कई राज और अंतिम संस्कार के रहस्य को जानेंगें, जिसे बहुत कम लोग ही जानते हैं |

अंतिम संस्कार की प्रक्रिया —-

किन्नरों के अंतिम संस्कार का तरीका बिल्कुल अलग होता है |
जब किसी किन्नर की मौत होती है तो वे शव को छिपा देते हैं और किसी गैर किन्नर को नहीं दिखाते हैं |
इनका मानना है कि आम आदमी के देख लेने पर अगला जन्म किन्नर के रुप में ही होता है |

अंतिम संस्कार को गुप्त रखने के लिए इनकी शव यात्रा रात के अँधेरे में निकाली जाती है और शव को जूते – चप्पल से पीटा जाता है |
कहा जाता है कि इस तरह मरने वाले किन्नर के पापों का प्रायश्चित होता है |
इनके शव को जलाया नहीं जाता है बल्कि जमीन में दफनाया जाता है |
किसी किन्नर की मौत होने पर उसके अन्य साथी एक हफ्ते तक भूखे रहते है |
किन्नर समाज किसी सदस्य के मरने पर मातम नहीं मनाते हैं बल्कि खुशियाँ मनाते हैं |
उनका मानना है कि उनके साथी को इस पापी दुनिया से मुक्ति मिल गई है |

किन्नर समाज से जुड़े अन्य रहस्य

👉 इनकी शादी के बारे में कहा जाता है कि इनकी शादी एक दिन के लिए होती है |
ऐसा कहा जाता है कि किन्नर अपने अराध्य देव अरावन से साल में एक बार शादी करते हैं और
अगले दिन उनके देवता की मौत के साथ यह वैवाहिक सम्बन्ध खत्म हो जाता है |

👉 कुछ जन्म से ही किन्नर होते हैं और कुछ बाद में बन जाते हैं |
एक सरकारी आँकड़े के अनुसार देश में हर साल 40 से 50 हजार किन्नरों की संख्या बढ़ रही है |
👉 इनकी दुआएँ किसी भी व्यक्ति के बुरे समय को दूर कर सकती है |
ऐसी मान्यता है कि इन्हें भगवान श्रीराम से बनवास के बाद वरदान प्राप्त है |

👉कहा जाता है कि इनके द्वारा दिया गया एक भी सिक्का पर्स में रखने पर धन की कमी दूर हो जाती हैं |
👉 पहले किन्नरों को शुभ एवं मांगलिक कार्यों में बुलाया जाता था |
यहाँ ये नाच – गाकर लोगों का मनोरंजन करते थे और इन्हें पैसे दिये जाते थे |
बदले में ये परिवार के सदस्यों को दुआएँ देते थे |

👉 अब इनका कमाने का तरीका बदल गया है |
अब ये ट्रेन और बसों में समूह बनाकर पैसे माँगते हैं |
इस समय ये कुछ शर्मनाक हरकतें भी कर बैठते हैं |
👉 किन्नर समाज अब स्वयं को समाज में अच्छे नागरिक के रुप में स्थापित करने के लिए प्रयत्नशील हैं, इसलिए कुछ किन्नर राजनीति में उतरे हैं |

🔴🔵🌕🔴🔵🌕🔴🔵🌕🔴🔵🌕🔴🔵

 

आपका ——— प्रमोद कुमार 

 

इन्हें भी पढ़ें —-
1.  भारत के भूतिया रेल्वे स्टेशन
2.  हनुमान जी की तीन पत्नियाँ और एक पुत्र, फिर भी ब्रह्मचारी
3.  भारत की कमांडो फोर्स : पार्ट 4
4.  श्रीराम और लक्ष्मण की मृत्यु का रहस्य
5.  जोक्स : अप्रैल फुल जोक्स ( APRIL FOOL JOKES )
6.  चुटकुले की दुनिया
7.  कामसूत्र के अनुसार स्त्रियाँ पुरुषों में क्या चाहती हैं

http://miracleindia11.blogspot.com/2017/10/blog-post_24.html?m=1

 

 

About PRAMOD KUMAR

मेंने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन राजस्थान में कम्पलीट किया |इसके बाद B. Ed कर्नाटक से किया | लेखन की चाह बचपन से ही थी, कॉलेज आते आते इसमें कुछ निखार आ गया |कॉलेज में यह स्थिति थी कि यदि कोई निबंध प्रतियोगिता होती और उसमें मेरे शामिल हो जाने से प्रतियोगिता दूसरे और तीसरे स्थान के लिए रह जाता | वापस राजस्थान आने पर अपना विद्यालय खोला ,सरकारी शिक्षक बनकर त्याग पत्र दे दिया |बिजनेस में एक सम्मानित ऊँचाई को पाकर धरातल पर आ गया |अब अपने जन्म स्थल पर कर्म कर रहा हूँ, जहाँ शिक्षा देना प्रमुख कर्म है | बचे समय में लिखने का अपना शौक पुरा करता हूँ |

View all posts by PRAMOD KUMAR →

6 Comments on “किन्नर का अंतिम संस्कार कैसे होता है”

    1. धन्यवाद अनामिका जी, सबसे पहले आप जिस पोस्ट को लिंक करना चाहते हैं, उस पोस्ट का URL कॉपी कर लीजिए |इसके बाद जिस पोस्ट में और जहाँ लिंक डालना चाहते हैं वहाँ क्लिक कर लिजिये |फिर उपर टूल बॉक्स में attachment के लिए symbol दिया हुआ है जो लेटे हुए 8 की तरह दिखता है, उसे क्लिक करिये |एक नया विन्डो खुलेगा |इसके उपरी बॉक्स पर URL को पेस्ट कर दीजिए और निचले बॉक्स में टाइप करके पोस्ट का टाइटिल लिख दीजिए |अब इसे insert कर दीजिए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *