मध्य कालीन ऐतिहासिक शब्दावली

मध्य कालीन ऐतिहासिक शब्दावली                                

मध्य कालीन ऐतिहासिक शब्दावली वास्तव में

मध्य कालीन ऐतिहासिक भारत के समाज को जानने की एक बेहतर कोशिश का नाम है।

हम आप सभी जानते हैं कि किसी भी काल के

इतिहास और तात्कालिक समाज को बेहतरीन ढंग से समझने के लिए,

उस काल विशेष की भाषा और उसके शब्दों के मायने समझना बेहद जरूरी है।

सच कहूं तो मैं खास इसी वजह से आज आपके

लिए लेकर आया हूं एक ऐसी ही सौगात,

जिसके अंतर्गत आपको मध्य कालीन भारतीय

समाज में प्रचलित कुछ खास शब्दों की उनके ही अर्थों की जानकारी मिलेगी। 

       मध्य कालीन                     शब्दावली 

अमीर

अमीर वास्तव में सेना पति होता था।

यह दिल्ली सल्तनत का तीसरा सबसे ऊंचा आधिकारिक पद था। 

अरीज ए मुमालिक

अजीज ए मुमालिक पूरे देश की सेना का मंत्री होता था। 

अमीर ए अखनूर

अमीर ए अखनूर अश्वों का प्रधान होता था। 

अमीर ए तुजुक

यह समारोह प्रमुख होता था। 

बरीद

बरीद यानि सूचना अधिकारी। 

चौगान

चौगान पोलो जैसे खेल को कहा जाता था। 

दलाल

यानी मध्यस्थ 

दरबार

शाही दरबार को कहते थे। 

दोआब

दोआब गंगा यमुना के बीच की भूमि को कहते थे। 

दीवान ए अर्ज

दीवान ए अर्ज वास्तव में बलबन कालीन सैन्य विभाग था। 

इक्ता

इक्ता उस भूखंड को कहते थे जो वेतन के बदले मिलता था। 

इक्ता दार

इक्ता दार इक्ता प्राप्त करने वाला कहलाता था। 

जजिया

यह गैर मुस्लिमों पर लगने वाला व्यक्तिगत कर था। 

जीतल

यह दिल्ली सल्तनत का तांबे का सिक्का था। 

खुतबा

यह धार्मिक प्रवचन था। 

ख्वाजा

यह व्यापारी, मालिक को कहते थे। 

मलिक

दिल्ली सल्तनत में यह दूसरे क्रम का अधिकारी था। 

 मामलुक

अर्थात गुलाम अधिकारी 

मंडी

अनाज बाजार 

मुहियान

यानी गुप्तचर 

नायब

अर्थात उप सलाहकार 

पायबोस

पैरों को चूमना 

रायरायन

अलाउददीन खिलजी द्वारा देवगर कके शासक रामदेव को दी गई उपाधि। 

सराय आदिल

कपड़ा बाजार सराय आदिल कहलाता था। 

टंका

यह सल्तनतक कालीन चांदी का सिक्का था। 

उलेमा

मुस्लिम धार्मिक विद्वान। 

उमरा

अमीर शब्द का बहुबचन। अमीर का अर्थ है दिल्ली सल्तनत का कुलीन व्यक्ति 

फवाजिल

अधिशेष राशि 

इदरार

राजस्व मुक्त भूमि का अनुदान। 

मुक्ति अथवा वली

इक्तादार या गवर्नर 

मुशरिफ

राजस्व अधिकारी 

मुताशर्रीफ

लेखा परीक्षक 

वक्फ

धार्मिक संस्थानों को दिया जाने वाला दान। 

वजीफा

वजीफा या वृत्ति 

सिलसिला

सूफियों के पंथिक संघ 

जमींदार

निजी भूमि के स्वामी जिस पर उनका वंश गत अधिकार होता था। 

सुल्तान शरक

पूर्व के अधिकारी 

 

धन्यवाद KPSINGH17052018

 

 

About kpsingh

मैने बचपन से निकल कर जीवन की राहों में आने के बाद सिर्फ यही सीखा है कि "जंग जारी रहनी चाहिए जीत मिले या सीख दोनों अनमोल हैं" मैं परास्नातक समाज शास्त्र की डिग्री लेने के अलावा CTET और UP TET परीक्षाएं पास की हैं ।मैंने देश के हिन्दी राष्ट्रीय समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लेखन किया है जैसे प्रतियोगिता दर्पण विज्ञान प्रगति आदि ।

View all posts by kpsingh →

2 Comments on “मध्य कालीन ऐतिहासिक शब्दावली”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *