निपाह क्या है ?

निपाह क्या है ?

निपाह क्या है ? 

भाइयों,

निपाह एक “वायरस” है जो कि चमगादड़ में पाया जाता है,जिसे Frut bets, या फ़्लाइंग फॉक्स के नाम से भी जाना जाता है।

यह वायरस चमगादड़ों से इंसानों में फैलता है,जो कि जानवरों में भी बीमारी फैलाता है। अर्थात

मनुष्य और जानवर दोनो में  गंभीर बीमारी  पैदा करता है।

यह वायरस बहुत तेजी से पूरे विश्व में फ़ैल रहा है, इसका  अब तक कोई इलाज नहीं है।

यदि सही समय पर इसका बचाव न किया गया तो मृत्यु भी हो सकता है।

लक्षण

  • तेज बुखार का आना ।
  • सिर का दर्द करना।
  • उल्टी होना।
  • बेहोशी या कोमा में जाना ।
  • मांसपेशियों में दर्द का होना।
  • दिमाग का घूमना (भ्रम)

चिकित्सा या बचाव

हालांकि, इस वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं है, लेकिन इस वायरस से बचने का उपाय है जिसे  करके इस वायरस से बचा जा सकता है। जैसे-

  • ऐसे फलों का कतई सेवन न करें जिन फलों को पक्षियों ने खाया हो ।
  • चमगादड़ के झुंड के पास बिल्कुल भी न जाएं।
  • न ही उनके लार, पेशाब के संपर्क में आयें।
  • विशेष ध्यान रखें कि इस्तेमाल न होने वाले कुएं, तालाब, झरने के पास भी न जायें।
  • निपाह वायरस प्रभाव  “एरिया” में भी न जायें।
  • पेड़ से गिरे हुए फलों का सेवन भी न करें।कोशिश करें कि स्वच्छ फल ही लें और पोटाश से फलों की सफाई कर लें इसके बाद ही फलों का सेवन करें।
  • संक्रमित जानवरों के संपर्क में न आएं जिनमें मुख्यतः सुअर, क्योंकि सुअर से भी यह वायरस फैलता है।
नोट ;- इस वायरस (निपाह) के लक्षण 
      मिलने पर तुरंत डॉक्टर के पास
      जाएं।

भाइयों इस मैसेज को अधिक से अधिक लोगों या ग्रुपों में send कर दीजिए जिससे कि इस गंभीर वायरस  के बारे में ज्यादा से ज्यादा  लोग जान सकें। और इस वायरस से  अपने आप को बचा सकें।

4 Comments on “निपाह क्या है ?”

  1. यह एक नई बिमारी का पता चला है जिसका उपचार अभी तक खोजा नहीं गया है |इसलिए इसका बचाव ही उपचार है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *