विटामिन बी के लाभ,हानि एवं इसके स्रोत आइए जानें।

विटामिन बी के लाभ,हानि एवं इसके स्रोत आइए जानें।

 

 

विटामिन बी :- विटामिन बी के बारे में दोस्तो आज हम बात करेेंगे। विटामिन बी अकेला एक विटामिन न होकर स्वयं मेें एक
समूह है,जिसे विटामिन बी कॉम्प्लैैैक्स के नाम से जाना जाता है। ये नाम हैंं – विटामिन बी1,बी2, बी3,बी5, बी6, बी7, बी9,
बी12 । यह जल में घुलनशील विटामिन होता है। इस विटामिन को जीवनदायी विटामिन भी कहा जा सकता है।विटामिन बी
समूह आपस में भिन्नता रखने के बावजूूूद एक दूसरे के अभिन्न अंग हैं। इस विटामिन की ताप सहन करने की क्षमता 120
डिग्री सेल्सियस तक है। यह विटामिन पाचन क्रिया को दुरस्त कर भूख को बढ़ाने मेेंं सहायक है। इसमें क्षार मिलाकर उबाला
जाए,तो यह नष्ट नहींं होता है,जब कि अम्ल मेें मिलाने पर बिना गर्म किए नष्ट हो जाता है। तो दोस्तो चलिए इस विटामिन
के बारे में और जानकारी हासिल करने की कोशिश करते हैं।

 

 

विटामिन बी के लाभ :-

(1) हमारे स्वास्थ्य के लिए उपयोगी यह विटामिन हमारे मुुँह,जीभ व नेत्र के साथ-साथ, हमारी पाचन क्रिया व स्नायु तंत्र को
       सही करने में महती भूमिका निभाता हैै।

 

 

(2) यह हमारे शरीर के मेटाबोलिज्म के साथ-साथ,रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने मेें भी हमारी मदद करता है।

 

 

(3) हम जो भी पोषक तत्व लेेेते हैंं,उन्हें ऊर्जा में बदलने में इस विटामिन का महत्वपूर्ण रोल है।

 

 

(4) हमारे शरीर को जहाँ और जिस प्रकार के प्रोटीन की आवश्यकता होती है,यह इस कार्य में मदद करता है।

 

 

(5) लाल रक्त कोशिकाओंं की बात हो या नर्वस सिस्टम को सही रखना हो,या फिर DNA का निर्माण या मरम्मत करना
       हो,सभी मेें इसका योगदान होता है।

 

 

(6) हमारी स्मरण शक्ति बढ़ाने और त्वचा मेेंं कांंति लाने में इसकी मुख्य भूमिका होती है।

 

 

विटामिन बी को अत्यधिक मात्रा में लेने से हानि :-

(A) विटामिन बी1 :-
(1) इस विटामिन को अत्यधिक मात्रा में लेेना शरीर के लिए  घातक साबित हो सकता है।
(2) सीने मेंं दर्द,साँँस सम्बन्धी बीमारी ,होंठ नीले पड़ना,त्वचा में एलर्जी का सामना करना पड़ सकता है।

 

 

(3) गर्भस्थ शिशु व गर्भवती महिला पर भी इसका विपरीत असर पड़ता है।

 

(A) विटामिन बी3 :-
(1) इस विटामिन को अत्यधिक मात्रा मेें लेना हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।
(2) त्वचा संंबन्धी बीमारी,लिवर प्रौब्लम या पेप्टिक अल्सर जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

 

 

विटामिन बी6 :-
(1) इसे अत्यधिक मात्रा में लेने से पेट में अकड़न होने लगती है।

 

 

(2) नवजात शिशु के लिए भी हानिकारक है।

 

 

विटामिन बी12 :-
(1) यह विटामिन भी अत्यधिक मात्रा में लेने से हमारे शरीर के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है।
(2) सिर दर्द,चक्कर आना,खुुुुजली की समस्या एवं गर्भवती महिला के लिए भी इसका अत्यधिक सेवन ठीक नहींं है।

 

 

विटामिन बी के स्रोत :-

यह विटामिन जो कि बहुुुत से विटामिन का समूूूूह है,हम आपको बताते हैैंं कि कौन सा विटामिन किसके खाने सेे प्राप्त किया
जा सकता है।
 बी1 :- अंडेे,चावल,मूँगफली, हरी मटर,संतरा,गेहूँ,अंकुरित बीज,हरी सब्जियाँ इत्यादि।

 

 

 बी2 :- खमीर,चावल,मटर,अंडे की जर्दी,मछली इत्यादि।

 

 

 बी3 :- मेवा ,दूध,अंडे की जर्दी, अखरोट इत्यादि।

 

 बी5 :- दाल, दूूध, मक्खन, खमीर, पिस्ता इत्यादि।

 

 

 बी6 :- मटर,चावल,गेहूँ, अंडे की जर्दी,मछली।

 

 

 बी7 :- गेहूूँ, चावल, सोयाबीन, मैदा, बाजरा इत्यादि।

 

 बी9 :- मूँगफली,दलिया,अंंकुुुरित अनाज,मटर।

 

 

 बी12 :- माँस,मछली अंडे इत्यादि।

 

विटामिन बी की कमी से होनेे वाली बीमारी :-

 बी1 :- बेरी-बेरी, कब्ज, एकाग्रता भंग होना,आँखों के सामने अँधेेेेरा छा जाना,चिड़चिड़ापन इत्यादि।

 

 

 बी2 :- नाक व आँखों के रोग, होंठ व मुुँह फटना,जीभ संबन्धी समस्या ।

 

 

 बी5 :- वजन कम होना,पेलाग्रा।

 

 

 बी6 :- हीमोग्लोबिन में कमी, त्वचा संंबन्धी रोग।

 

 

 बी7 :-कमजोरी, थकान, तनाव, डिप्रैशन।

 

 

 बी9 :- रक्ताल्पता।
 बी 12 :-सर्दी, तनाव, थकान, रक्ताल्पता,डिप्रैशन।

 

 

तो दोस्तो यह जानकारी आपको पसंद आईहो,तो लाइक,कमेंंट व शेयर करना न भूलें।
                                                                                                                                                                धन्यवाद

8 Comments on “विटामिन बी के लाभ,हानि एवं इसके स्रोत आइए जानें।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *