विटामिन के ,के लाभ,हानि एवं इसके स्रोत,आइए जानें।

विटामिन के,के लाभ,हानि एवं इसके स्रोत,आइए जानें।

 

 

विटामिन के :- विटामिन के के बारे में दोस्तो आज हम जानकारी देना चाहेंगे। हमेें अपनेे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए
विटामिन्स, मिनरल्स,प्रोटीन,फैट्स एवं कार्बोहाइड्रेट्स की आवश्यकता होती है। इसे हम आहार व सप्लीमेंट के माध्यम से
ले सकते हैं। विटामिन के जिसका सीधा सम्बन्ध रक्त जमने की प्रक्रिया से हैै। हमारे शरीर में चोट लग जाने के थोड़ी देर बाद
रक्त बहना बंद हो जाता है। यह रक्त जमनेे की प्रक्रिया रक्त में उपस्थित प्रोथ्रोम्बिन नामक पदार्थ के कारण होती है,जो कि
लिवर में निर्मित होता है। अत: इस तत्व के निर्माण हेतु हमारे शरीर में विटामिन केे की मात्रा अत्यंत आवश्यक है।
प्रोथ्रोम्बिन की मात्रा 35%  हो जाने पर रक्त जमनेे की प्रक्रिया में देेेरी हो सकती हैै। विटामिन के की कमी हो जानेे पर जब
प्रोथ्रोम्बिन की मात्रा 15% ही रह जाती है,तब ऐसी अवस्था में स्वत: ही रक्तस्राव होनेे लगता है। तो दोस्तो चलिए इस
विटामिन के बारे मेें और जानकारी हासिल करने की कोशिश करते हैं।

 

 

 

 

विटामिन के के लाभ :-

(1) यह विटामिन रक्त वाहिनियों मेंं खनिजों के जमने को रोकता है। इससेे हमारा रक्तचाप सामान्य व सही रहता है।

 

 

 

(2) यह विटामिन हड्डियों के स्वास्थ्य से भी संंबन्ध रखता है। यह हड्डियों मेंं होने वाले  फ्रैक्चर को रोकता है।

 

 

 

(3) प्रोथ्रोम्बिन,जिसका निर्माण लिवर में होता है,इसी विटामिन के कारण ही होता है।

 

 

 

(4) महिलाओंं मेें मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द में राहत प्रदान करता है।

 

 

 

(5) यह शरीर मेंं होने वाले बाहरी रक्तस्राव के साथ-साथ आंतरिक रक्तस्राव को रोकनेे मेें भी काफी मदद करता है।

 

 

 

(6) यह विटामिन हड्डियों में मजबूूूती प्रदान करने के साथ -साथ धमनियों में कैल्शियम को जमने नहीं देता है,जिससे हृृदय
       रोग की संभावना खत्म हो जाती है।

 

 

 

(7) यह विटामिन असमय होने वाले बुढ़ापे के साथ-साथ पाचन क्रिया को भी दुुरस्त करता है।

 

 

 

(8) यह विटामिन नाक,मुुँह,लिवर,कोलोन व प्रोस्टेट कैंंसर से लड़ने में हमारी मदद करता हैै।

 

 

 

(9) रक्त मेंं ग्लूकोज का स्तर, पेन्क्रियाज मेंं बनने वाले इन्सुलिन के कारण ठीक रहता हैै,जिसके कारण डायबिटीज का
      खतरा कम हो जाता है।

 

 

 

(10) ऑक्सीडेेेटिव तनाव हमारे मस्तिष्क में फ्री रेडीकल्स की क्षति के कारण होता है,जिससे हमारी मस्तिष्क की कोशिकाएँ
          क्षतिग्रस्त हो सकती हैं। अगर हम इस विटामिन की उचित मात्रा लेते हैैं,तो इस परेशानी से बचा जा सकता है।

 

 

 

विटामिन के की कमी से होनेे वाली हानि :-

(1) ऑपरेशन के दौरान अधिक रक्त स्राव,रक्त का थक्का बनने में देरी,पाचन तंत्र मेें रक्तस्राव होना,चोट के दौरान देर तक
       रक्तस्राव होना,नाक व मसूूूढ़ों  से खून बहना ,ये सभी इसी विटामिन की कमी केे कारण होते हैैं।
(2) पाचन क्रिया कमजोर पड़ जाना,एसीडिटी की परेशानी,धमनियाँ सख्त होना,पेशाब के रास्ते खून आना,सिस्टिक
       फाइब्रोसिस ,ये सभी इसी विटामिन की कमी के कारण ही होते हैं।

 

 

 

(3) इस विटामिन की कमी होने पर नवजात शिशु में 5-6 दिन के बाद मूत्र मार्ग,गुदा मार्ग,नाभि व कपाल के अंदर स्वत: ही
       रक्त स्राव होने लगता है।
(4) आँखों मेें समस्या ,रक्त धमनियाँ सख्त होना व हड्डियाँ कमजोर हो जाना,ये सभी बीमारियाँ इसी विटामिन की कमी केे
       कारण होती हैं।

 

 

 

विटामिन के की अत्यधिक मात्रा लेने पर हानि :-

(1) तनाव,चिड़चिड़ापन,शारीरिक कमजोरी इसी विटामिन की अत्यधिक मात्रा लेने के कारण होते हैं।
(2) शरीर मेंं जकड़न,तनाव,साँस संबन्धी बीमारी भी इसकी अत्यधिक मात्रा लेने से हो सकती है।

 

विटामिन के के स्रोत :-

(1) फूलगोभी,चुकन्दर,केला,शलजम,पालक में यह प्रचुर मात्रा मेें मिलता है।
(2) इसके अतिरिक्त दही,चीज,पनीर,ऑलिव ऑयल,स्ट्रौबेरी,अंगूर,कीवी, शिमला मिर्च,      
      ब्रोकली,टमाटर,मछली,चिकिन,अंडे भी विटामिन के के अच्छे स्रोत हैंं।

 

 

 

इस विटामिन की प्रतिदिन ली जाने वाली मात्रा :-

(1) जन्म से छ: माह तक- 2 माइक्रोग्राम
(2) 7 माह से 12 माह तक – 2.5 माइक्रो ग्राम
(3) 1 वर्ष से 3 वर्ष तक – 30 माइक्रो ग्राम
(4) 4 वर्ष से 8 वर्ष तक -55 माइक्रो ग्राम
(5) 9 वर्ष से 13 वर्ष तक – 60 माइक्रो ग्राम
(6) 14 वर्ष से 18 वर्ष तक – 75 माइक्रो ग्राम
(7) वयस्क महिला या स्तनपान कराने वाली महिला – 90 माइक्रो ग्राम
(8) वयस्क पुुुरुष – 120 माइक्रो ग्राम
तो दोस्तो यह जानकारी आपको कैसी लगी ? यदि पसंद आई हो ,तो लाइक,कमेंट व शेयर करना न भूलें।
                                                                                                                                                                                             धन्यवाद
लेखक
अखिलेेश कुमार नागर

5 Comments on “विटामिन के ,के लाभ,हानि एवं इसके स्रोत,आइए जानें।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *