मधुमेह क्या है और कैसे होता है ? आइए जानें लक्षण व बचाव भी।

मधुमेह क्या है और कैसे होता है ? आइए जानें लक्षण व बचाव भी।

 

 

मधुमेह क्या है और कैसे होता है ? आइए जानें लक्षण व बचाव भी।

 

मधुमेह :- मधुुमेह,जी हाँँ दोस्तो आज हम मधुमेह के बारे में बात करेेंगे। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी मेें अनियमित
दिनचर्या व खानपान के कारण यह बीमारी अनेक लोगों को अपनी चपेेट में लेेेेती जा रही है। अगर इस बीमारी को धीमी मौत
भी कहा जाए, तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। एक बार कोई भी व्यक्ति इस बीमारी की चपेट में आ जाए,तो वह जिंदगी भर
इसका गुलाम बन जाता है। यह एक ऐसी बीमारी है,कि इसके साथ-साथ अन्य बीमारियों से भी किसी भी व्यक्ति का शरीर
रोगग्रस्त हो जाता है। जो व्यक्ति मधुमेह बीमारी से पीड़ित हैं,तो इतना तय हैै कि उन्हें हर समय लिवर,किडनी,आँखों व पैैैरों
से सम्बन्धित परेेेशानियाँ बनी रहती हैं।

 

मधुमेह क्या है और कैसे होता है ? आइए जानें लक्षण व बचाव भी।

 

मधुमेह कैसे होता है ?

(1) हमारे शरीर के अग्नाशय(पैैैन्क्रियाज) नामक अंग में इंसुलिन नामक हार्मोन बनता है।
(2) इसका मुुुख्य कार्य रक्त में उपस्थित ग्लूकोज को ऊर्जा में बदलना है,जिससे शरीर मेें शुगर की मात्रा नियंंत्रित रहती है।
(3) जब अग्नाशय में इंंसुुुलिन बनना कम हो जाता है,तब रक्त में उपस्थित शुगर का लेवल बढ़ने से अंगों को क्षति पहुँँचना
       शुुरू हो जाती हैै।
(4) महिलाओं की अपेक्षा पुरुष सबसेे ज्यादा इस बीमारी से ग्रसित होते हैं।
(5) मधुमेह दो प्रकार का होता है- टाइप -1 और टाइप -2।
(6) टाइप -1 बीमारी वंंशानुुगत होती है अर्थात् अगर घर में माता-पिता या दादा-दादी के पीड़ित होने पर परिवार का कोई भी
      सदस्य इस बीमारी की चपेट में आ जाता है।
(7) टाइप-2 बीमारी किसी भी व्यक्ति के कम शारीरिक परिश्रम,कम नींद लेना,पौष्टिक आहार न लेना व ज्यादा मीठे पदार्थ
      केे सेेेवन केे कारण होती है।

 

मधुमेह क्या है और कैसे होता है ? आइए जानें लक्षण और बचाव भी।

 

प्रकट होने वाले लक्षण :-

चिड़चिड़ापन,चक्कर आना,आँँखों की रोशनी कम होना,बार-बार पेेेशाब लगना, अधिक प्यास लगना,किसी भी चोट या जख्म
को भरने में समय लगना,फोड़े या फुंंसियों का बार-बार निकलना,हाथ-पैैैरों पर खुुुजली से होने वाले जख्म इत्यादि,ये सभी 
मधुमेह से प्रकट होने वाले लक्षण हैं।

 

मधुमेह क्या है और कैसे होता है ? आइए जानें लक्षण व बचाव भी।

 

सर्वाधिक खतरा किसका :-

(1) मधुमेेेह से पीड़ित व्यक्ति को हर्ट अटैैैैक व स्ट्रोक की संभावना अधिक होती है।
(2) आम व्यक्ति की तुलना मेेें हर्ट अटैैैक का खतरा इन्हें 50 गुना अधिक होता है।
(3) कोशिकाओं को नुकसान पहुँचने के साथ-साथ रक्त नलिकाएँ प्रभावित हो जाती हैं।
(4) मधुमेेेह पीड़ित व्यक्ति इलाज कराते रहेें,अन्यथा आँखों की रेेटिना प्रभावित हो सकती हैै।

 

मधुमेह क्या है और कैसे होता है ? आइए जानें लक्षण व बचाव भी।

 

कैैैसे करें बचाव :-

(1) अपनी दिनचर्या मेें बदलाव कर शारीरिक तौर पर परिश्रम करना प्रारंभ कर दें।
(2) जिम मेें जाकर या फिर 3-4 किलोमीटर पैदल चलकर शारीरिक श्रम किया जा सकता है।
(3) जिन व्यक्तियों का शुगर लेेवल भोजन से पूर्व 100 व भोजन के बाद 125 हो जाता है,उन्हेें सावधान रहने की जरूरत है।
(4) वे HbA1c हर महीने कराते रहें व डॉक्टर केे परामर्शानुसार दवाइयाँ लेते रहें।
(5) कम कैलोरी वाला भोजन लें,हो सके तो मिठाइयों का त्याग कर देें।
(6) पूरेे दिन में लिए जाने वाले भोजन को कई बार में खाएँँ।
(7) खानेे मेंं ताजे फल,साबुत अनाज, सब्जियाँ,ओमेगा-3 वसा के स्रोत व डेयरी  प्रोडक्ट को शामिल करें।

 

(8) भरपूूर नींद लें और ऑफिस का तनाव ऑफिस में छोड़ेें।
(9) गेहूँ,जौ और चना को 2:2:1 के अनुपात में मिलाकर बने हुए आटे की रोटियाँ प्रयोग में लें।
(10) मधुुुमेह से पीड़ित व्यक्ति अपने भोजन में लौकी,तोरई,पालक,बैंंगन,शलजम,मेेेथी,करेला,फूल गोभी,बंद गोभी, मूली,
         टमाटर, ब्रोकोली, हरी पत्तेदार सब्जियाँ शामिल करें।
(11) मौसमी, संतरा,कच्चा अमरूद, आँवला, खरबूजा,पपीता,नींबू,जामुन,नाशपाती मधुुुमेह  रोगी ले सकते हैंं।
         केेला,आम,अंगूूूर,सेब व खजूर का परित्याग करें।
(12) अंकुरित दालें,अंंकुरित छिलके वाले चने,प्याज,लहसुुुन,सत्तू,बादाम,मधुमेह रोगी ले सकते हैं। चावल,आलू,मक्खन का
         प्रयोग यदि कम कर देें,तोअच्छा है।
तो दोस्तो यह जानकारी अच्छी लगी हो,तो लाइक,कमेेंट व शेेेयर करना न भूलें।
                                                                                                                                                  धन्यवाद
लेेेखक
अखिलेश कुमार नागर
अन्य पोस्ट भी पढ़ें 👇👇👇👇👇
(1) ईस्टर संडे क्या होता है ? आइए जानें इसके बारे में।
(2) बैंगनी रंग की खोज ने बनाया उसे वैज्ञानिक

8 Comments on “मधुमेह क्या है और कैसे होता है ? आइए जानें लक्षण व बचाव भी।”

  1. Nagar ji aapne diabtes ke bare me vistrit jankari dekar aam janta ka bhala kiua hai aap ko bahut bahut dhanyawad.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *