असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )

असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )

जीवन में हर व्यक्ति असफल होता है |
आप भी होते हैं, मैं भी होता हूँ |
अगर आप fail नहीं होते हैं इसका अर्थ है आप सुरक्षित दायरे में हर काम करते हैं, जो आपको सामान्य से ऊपर नहीं उठा सकती है |
इतिहास में एक भी उदाहरण आपको ऐसा नहीं मिलेगा जिसने बिना संघर्ष के सफलता प्राप्त की हो, बिना fail हुए success ले ली हो, बिना रिस्क लिए सफल हुआ हो |
Risk तो आपको लेना ही पड़ेगा और उसमें कई बार आप असफल होंगें |
लेकिन असफलता को सफलता में कैसे बदलना है ,यही आज का विषय है |
मैं आपको कभी नहीं कहूंगा कि आप fail होना बंद कर दें |
असफलता कोई समस्या नहीं है |
मैं बताना चाहता हूँ बार बार असफल होने के बावजूद अंततः सफल किस प्रकार हो सकते हैं |
असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert failure into Success )
12 फरवरी 1809 इतिहास में बहुत ही निराला दिन है |
इस दिन चार्ल्स डार्विन और अब्राहम लिंकन दोनों का जन्म हुआ था |
 असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )
लिंकन जब 9 साल के थे तब उनकी माता की मृत्यु जहरीला दूध पीने से हो गई थी |
पिता ने दूसरी शादी कर ली |
उन्होंने वकालत शुरू की जो चल नहीं पाया |
21वें वर्ष में वार्ड मेम्बर का चुनाव हार गये |
22वें वर्ष में शादी करने में असफल रहे |
24वें साल में बिजनेस में असफल रहे, 27वें वर्ष में पत्नी ने तलाक दे दिया |
32वें वर्ष में सांसद का चुनाव हार गये |
37वें वर्ष में, 42वें वर्ष में और 47वें वर्ष में भी चुनाव हारते गये और अंत में 52वें वर्ष में वे अमेरिका के राष्ट्रपति बन गये |
असफलता को सफलता में बदलने के लिए क्या जरूरी है, कौनसे आयडिया हैं जो सफलता को अपनी ओर खींच लेती है |
इन्हीं सब बातों पर चर्चा करूँगा | मेरा पहला प्वाइंट है –

1. संसाधन भले न हो, संसाधन जुटाने की क्षमता है –

लोग कहते हैं मैं fail क्यों हुआ क्योंकि मेरे पास धन नहीं था, ताकत नहीं थी, समय नहीं मिला,
अवसर नहीं मिला, पेरेन्टस ने साथ नहीं दिया, सहयोगी नहीं थे, बहुत कारण बता देंगे |
आप किसी वर्ग या व्यवसाय से ताल्लुकात रखते हों कोई परेशानी नहीं है |
आपके पास संसाधनों का अभाव हो कोई दिक्कत नहीं है, आपके अंदर संसाधन जुटाने की क्षमता है |
आपके पास talent नहीं है talent लाने की क्षमता है |
श्रीमदभगवद्गीता में श्रीकृष्ण अर्जुन को कहते हैं तुम और समस्त जीव मेरे ही अंश हो |
जब श्रीकृष्ण में असीमित अपार शक्ति है तो हममें भी वही अपार क्षमता है |
समुद्र के जल की रासायनिक संरचना में हाइड्रोजन के दो परमाणु और ऑक्सीजन का एक परमाणु होता है |
और जल की एक बूँद में भी वही हाइड्रोजन के दो परमाणु और ऑक्सीजन का एक परमाणु होता है |
असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )
आपके पास संसाधन नहीं है कोई फर्क नहीं पड़ता है | संसाधन जुटाये भी जाते हैं |
अगर आपके पास संसाधन होते तो वो ज्यादा नुकसानदायक होता |
आप संसाधनों से satisfied हो जाते |
अगर आपके पास संसाधन नहीं है और उसे generate करने की ability को बढ़ा लिया
तो इतने संसाधन आ जायेंगें कि उनको कोई रोक नहीं सकता है |
लेकिन समस्या हमारी सोच का है |
कहते हैं मुझे मौका नहीं मिला, अवसर नहीं मिला |
कैसा मौका, कैसा अवसर तलाश रहे हैं |
दुनिया भर के बैंक लोन देने को तैयार हैं |
असफलता को सफलता में कैसो बदलें ( How to convert Failure into Success )
प्राइवेट संस्थाएं आपका साथ देने को तैयार हैं |
आपके पास आयडिया होना चाहिए जिस पर वे फंडिंग कर सकें |
आपके पास वो ताकत होनी चाहिए जो आप भूल चुके हैं -” संसाधन जुटा लेने की क्षमता ” तो पैसों की कहीं कमी नहीं है |
हमने अपने चारों तरफ एक लाइन खींच रखी है, ये मुझसे नहीं हो सकता है |
बार – बार कोशिश की असफलता से हार मान लेते हैं |
असफलता को सफलता मैं कैसै बदलें ( How to convert Failure into Success )
बार – बार अपने को फंसा लेते हैं और सोचते हैं इसका कोई दूसरा हल नहीं हो सकता है |
एक हल mathematics में होता है, एक प्रॉब्लम का एक ही हल | ये लाइफ में नहीं होता है |
एक problem के कई solution हो सकते हैं |
आपने 10.20 या 50 solution ही तो try किये हैं |
जितनी बार भी आपने try किया है उसके अलावा एक और solution हो सकता है |
अगर आप ऐसा सोचते हैं कि आपने सारे solution try कर लिए हैं तो उसके बाद भी एक solution होता है|
mathematics और life में बहुत अंतर है |mathematics में solution मिलने पर प्रॉब्लम खत्म
परंतु life में कई बार solution ढूँढ़ना पड़ेगा, अलग -अलग तरीके से ढूँढ़ने पड़ेंगें,
अलग – अलग नजरिए से ढूँढ़ने पड़ेंगें, अलग – अलग दृष्टिकोण से ढूँढ़ने पड़ेंगें |

2. FOCUS ON DIFFICULTY OR POSSIBILITY –

आपका फोकस किस पर है ये बहुत महत्त्वपूर्ण है |
अगर आपका फोकस difficulty पर है तो उसका साइज बड़ा हो जायेगा |
असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )
अगर आप possibility पर फोकस हैं तो उसका साइज बड़ा हो जायेगा |
क्योंकि हमारा mind वैसा ही कार्य करता है जैसा हम सोचते हैं |
अगर difficulty बहुत हैं सोचेंगें तो इसका circle बड़ा हो जाएगा और possibilityबहुत हैं सोचेंगें तो इसका circle बड़ा हो जाएगा |
असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )
फोकस हमारे पुराने विचार, व्यवहार और धारणाओं पर भी निर्भर करता है|
इन्हें बदलने की जरूरत पड़े तो बदल डालें |
बार – बार लिखें कि क्या क्या possibility हैं और बार – बार difficulty को हटाते जाना है |
possibility ही difficulty को अपने आप खत्म कर देगी और difficulty पर ध्यान देने की जरूरत नहीं पड़ेगी |
अगर आपने possibility बढ़ा ली जीवन में, तो आपको कोई रोक नहीं सकता |
बाहरी कारण और बाहरी दबाव आपको सफलता नहीं दिलायेगी |
अगर सफलता मिलती भी है तो वो temporary होती है |
आपको अपने अंदर वो ताकत और विश्वास पैदा करना होगा जो अंततः आपको सफल बनायेगी |

3. DISEASES OF ATTITUDE –

एक बार आपका attitude खराब हो गया, एक बार आपने मान लिया कि आप नहीं कर सकते हो तो आपको कोई नहीं बचा सकता है |
आपके Cancer disease को बाहर के डॉक्टर ठीक कर सकते हैं पर आपके attitude disease को कोई नहीं ठीक कर सकता है |
असफलता को सफलता में कैसे बदवें ( How to convert Failure into Success)
आपके नजर का इलाज हो सकता है आपके नजरिये का नहीं |
Disease of attitude आपको सफलता से दूर लेता चला जायेगा |
आपके सामने difficulties का पहाड़ खड़ा करता जायेगा |
इस disease का इलाज आपको खुद ही करना पड़ेगा कोई दूसरा नहीं कर सकता है |
जब तक आप खुद की सहायता नहीं करेंगे बाहर का कोई भी आपकी मदद नहीं कर सकता है |
श्रीकृष्ण अर्जुन के साथ थे, हमेशा थे, उनका मार्गदर्शन करते थे, परंतु युद्ध अर्जुन को स्वयं ही लड़ना पड़ा था |
जब तक आप इस disease पर विजय नहीं पा लेंगे negative attitude को दूर नहीं करेंगे
आपकी सफलता के मार्ग में बार – बार रुकावटें आती रहेंगी |
आपका पारिवारिक जीवन, सामाजिक जीवन, व्यवसायिक जीवन सब कुछ नष्ट हो जायेगा |
आपको सफलता पाने के लिए हर बार अपनी असफलता पर फिर से उठना पड़ेगा, Bounce Back लेना पड़ेगा |
आपको ध्यान रखना है संसाधन नहीं है कोई बात नहीं, संसाधन जुटाने की क्षमता है आपके पास |
असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )
difficulty को possibility से दूर करना है और अपने attitude को negativity से दूर रखना है फिर आपको सफल होने से कोई रोक नहीं सकता है |
11 फरवरी 1847 को जन्मे बल्ब के आविष्कारक थॉमस एडिसन को भी 9999 बार असफलता का मुँह देखना पड़ा और 10000  वें बार में उनको सफलता मिली |
 असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )
एडिसन अपनी असफलता से रूके नहीं बल्कि असफलता मिलने के बाद हर बार  bounce back  लेते थे |
जब उनसे पूछा गया कि आपको 9999 बार असफलता मिली तो आपने क्या सीखा |
उन्होंने एक बहुत अच्छी लाइन बोली –
” मुझे 9999 बार असफलता नहीं मिली बल्कि मैंने 9999 तरीके खोज लिए हैं, जिनसे बल्ब नहीं बन सकता है |”

 

दोस्तों , आपको पोस्ट पसंद आई हो तो इसे लाइक और शेयर करें |

 

आपका ——— प्रमोद कुमार 

 

अन्य पोस्ट —

1. एकाग्रता और याददाश्त बढ़ाने के टिप्स ( TIPS FOR IMPROVE CONCENTRATION AND MEMORY )

2.नकारात्मक सोच या नकारात्मक भावना पर नियंत्रण कैसे करें HOW TO CONTROL NEGATIVE THINKING OR NEGATIVE EMOTION

3. Sexual attachment पर से ध्यान कैसे हटायें, HOW TO REPLACE SEXUAL ATTACHMENT IN LIFE

4. जैफ बेजोस ( JEFF BEZOS ) दुनिया का सबसे रईस आदमी

5. http://miracleindia11.blogspot.com/2018/06/blog-post.html?m=1

 

 

 

 

About PRAMOD KUMAR

मेंने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन राजस्थान में कम्पलीट किया |इसके बाद B. Ed कर्नाटक से किया | लेखन की चाह बचपन से ही थी, कॉलेज आते आते इसमें कुछ निखार आ गया |कॉलेज में यह स्थिति थी कि यदि कोई निबंध प्रतियोगिता होती और उसमें मेरे शामिल हो जाने से प्रतियोगिता दूसरे और तीसरे स्थान के लिए रह जाता | वापस राजस्थान आने पर अपना विद्यालय खोला ,सरकारी शिक्षक बनकर त्याग पत्र दे दिया |बिजनेस में एक सम्मानित ऊँचाई को पाकर धरातल पर आ गया |अब अपने जन्म स्थल पर कर्म कर रहा हूँ, जहाँ शिक्षा देना प्रमुख कर्म है | बचे समय में लिखने का अपना शौक पुरा करता हूँ |

View all posts by PRAMOD KUMAR →

12 Comments on “असफलता को सफलता में कैसे बदलें ( How to convert Failure into Success )”

  1. नमस्ते,
    प्रमोद जी!
    आपने लेखनी से मस्तिष्क के मानसपटल से निकालकर अतिउत्तम विचार रखा है।

    1. नमस्ते सर, आपको पोस्ट पसंद आया, जानकर प्रसन्नता होती है | कमेंटस से हौसला और उत्साह बढ़ता है और अच्छा करने की प्रेरणा मिलती है | आशा करता हूँ कि लगातार मेरा और मेरे साथ अन्य ब्लॉगर का उत्साहवर्धन करते रहेंगे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *