बांझपन होने के फायदे , Banzpan Hone ke Fayde

बांझपन होने के फायदे , Banzpan Hone ke Fayde 

बांझपन : नमस्कार दोस्तों , आज हम यहाँ बांझपन होने के फायदे के बारे में जानेंगे |बांझपनहोना किसे कहते हैं  ?

कुछ लोग बांझपन क्यों होते हैं ?और बांझपन होने से क्या फायदे हैं  ? इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे |

दोस्तों, कहा जाता है , कि 

किसी भी जीव (आत्मा ) को उनके पिछले जन्म के कर्मो के फल स्वरुप इस जन्म मे रुप, रंग मिलता हैं |

वह ईश्वर की देन हैं | उन्होने जो भी आपको दिया उनका स्वीकार करना ही पड़ता है | 

बांझपन क्या है  ?

सादी के बाद जिस नर – नारी का बच्चा नहीं होता

है  | तो उसे बांझ कहते हैं | बांझ होना कुदरती भी

हो सकता है  | या फिर कृत्रिम से भी हो सकता है |

 

नर या  नारी में कुछ कमी की वजह से नारी मे गर्भ

नही ठहरता हैं  | और वो कमी जन्म जात है | उसे

कुदरती कहते हैं |

 

और  नर या नारी ने कुछ ना उपयोग करनेवाली

चीज उपयोग की हो | या उनके साथ कुछ घटना

घट गई हो | जिसकी वजह से गर्भ नहीं ठहरता हैं |

उसे कृत्रिम कहते हैं  |

 

क्यों होते हैं बांझ ?

कहा जाता है , कि पिछले जन्म के कर्मो के फल  इस जन्म मे फल स्वरुप  मिलता हैं |

ये फल ईश्वर देता है |जिसने जैसा कर्म किया वैसा उनको फल |

इस जन्म मे जो भी मिला है | मिल रहा है और मिलनेवाला हैं |

वो सभी ईश्वर की ही देन हैं | उनके मरजी के बिना कुछ भी संभव नहीं है |

( ये भी पढ़े  :-  पति – पत्नी का संबंध कैसे मजबूत बनाएँ  )

एक नज़र परिवार पर  :-

बांझपन होने के फायदे , Banzpan Hone ke Fayde

एक नज़र परिवार पर 

कहा जाता है कि मनुष्य का जन्म ईश्वर प्राप्ति के लिए है | मोक्ष प्राप्त करने के लिए मिलता हैं |

मोक्स या ने   जहाँ महासुख मिलता हैं  | परमानंद मिलता हैं | परम सुख की प्राप्ति होती  है |  उसे मोक्ष कहते हैं | 

दोस्तों, एक नज़र परिवार वालो की बात करते हैं |तो जिसका भी परिवार है | उनके कर्मो के फल स्वरुप संतान का जन्म होता हैं | और

वो भी संतान के कर्मो के फल स्वरुप से उनका भी जन्म होता हैं | वो परिवार मे कर्मो के हिसाब से जो भी  सुख – दु:ख है वो ईश्वर बेलेन्स करता है | और उनको यहाँ इस जन्म मे भुगतना है |

वे लाख कोशिश करके भी  जो दु:ख है | उसे वे नहीं हटा सकते | क्योंकि उनके

कर्मो के हिसाब से उसे परिवार मे जुडा़ गया है |

वो अच्छे से भगवान की पूजा भी नहीं कर पाता | क्योंकि उनके पास परिवार की जिम्मेदारी है |

वह अच्छे से सो भी नहीं पाता, उनका मन घूमते रहता है | क्या करू  ? कैसे करू ? कहाँ जाऊ ? यही सोचने मे  उनका वक्त पूरा हो जाता है |

वो सद् गुरु  भी कर लेते हैं  | पर उनको पूजा करने का वक्त भी नहीं मिल पाता | वो अपने परिवार को कैसे सुखी रख सके उनके बारे मे ही सोचते रहता है | तो कैसे वो नि:स्वार्थ भाव से भक्ति कर पाता है |

भक्ति करके वो सिर्फ शांतिमय जीवन व्यतीत कर सकता है | शांतिमय जीवन गुजार सकता है | अच्छे कर्म करने की कोशिश कर सकता है |

अगर उनको ईश्वर की प्राप्ति चाहिए |  तो परिवार का मोह छोड़ना होगा |  ये मेरा मत कहता हैं |

बांझपन होने के फायदे  :-

बांझपन  होना स्वभाविक बात है | दोस्तों , बांझ होना या ना होना अपने हाथ में नहीं है | 

लोगों का क्या है  ? वो तो परिवार हो या ना हो कुछ भी कहने की आदत है |

जिनका परिवार है | उनके परिवार की कमियाँ निकालते रहते है | और जिनका परिवार नहीं है |

उनको कहने के लिए कुछ नहीं तो बांझ कहते हैं | लोग दोनो बाजु से बोलते हैं |

बांझपन होना कोई दोष नहीं है |

मैं तो कहता कि जो भी लोग बांझ है | वो बहुत ही लक्की हैं | क्योंकि

आप किसी की भी जिम्मेदारी लिए बिना | मन चाहे वक्त पर, बड़े ही आराम से ईश्वर की भक्ति कर सकते हो |

मेरा मत कहता है , कि  आपको ईश्वर प्राप्ति के लिए ही चूना गया है | और इसलिए आपको इस प्रकार का शरीर दिया गया है |

बांझपन दूर करने के बहुत सारे ईलाज बताए गए हैं | लेकिन उस ईलाज के पीछे ना पडे़ | उसमें बदलाव ना लाएँ क्योंकि ये ईश्वर की देन हैं | 

दोस्तों , मेरा मत कहता हैं , कि

भक्ति करने के लिए आपको इस जन्म मे अवसर दिया है |

ये अवसर मत गवाना | ऐसा अवसर फिर से कब मिलेगा | ये तो ईश्वर ही जाने | इसलिए आप दु:खी मत होना |

आपके लिए ईश्वर ने मोक्ष प्राप्ति के लिए रास्ता खुल्ला रखा है | तो आप नि:स्वार्थ भाव से बिना कुछ सोचे मन लगा के भक्ति के मार्ग पर आगे बढ़े |

धन्यवाद 

लेखक : योगेशभाई पटेल 

 

10 Comments on “बांझपन होने के फायदे , Banzpan Hone ke Fayde”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *