फूल भगवान पर क्यों चढ़ाते हैं ? Phool Bhagwan par Kyo Chadhate hai ?

फूल भगवान पर क्यों चढ़ाते हैं ? Phool Bhagwan par Kyo Chadhate hai ?

फूलफूल भगवान पर क्यों चढ़ाते हैं ? फूल में ऐसा क्या रहस्य  है कि उसे भगवान पर चढा़या जाता है ? 

इस बारे में बताने से पहले मै फूलों के बारे में कुछ ओर बातें बताने जा रहा हूँ वे भी जानना बहुत जरूरी है ऐसा मेरा मत कहता हैं |

इस सृष्टि का निर्माण खुदा ने किया है | यहाँ जो भी चीज देख रहे हो या महसूस कर रहे हो वे सभी खुदा की बनाई हुई चीजें हैं | ये आप भलीभाती जानते हैं |

दोस्तों, आज यहाँ फूलों के बारे में जानेंगे | फूल आपको हर जगह पर देखने को  मिलेगा | जो भी पेड़ पौधे हैं उनमे फूल आते हैं | उनकी महक चारो ओर फैली हुई होती हैं | 

फूल भगवान पर क्यों चढ़ाते हैं ? Phool Bhagwan par Kyo Chadhate hai ?

 

आज हम देख रहे हैं कि फूलों को तोड़ कर उसे भगवान पर चढा़या जाता है | 

दोस्तों, फूलों का निर्माण ही भगवान ने किया है तो उसे उनकी जरूरत कैसे हो सकती हैं  ? 

अगर आप सोचते होंगे कि फूलों को भगवान पर चढ़ा

के भगवान को खुश कर देंगे या वहाँ का वातावरण

खुशनुमा और सुगन्धित कर देंगे | लेकिन मेरा मत कुछ

ओर कह रहा है |

क्योंकि भगवान तो कण-कण में बसा हुआ है | तो हर

जगहों पर फूलों का रहना आवश्यक है | हर जगह पर

फूलों की महक होनी चाहिए | तभी भगवान खुश रह सकता है |

अगर आपने कभी भी  फूलों तोड़ने के वक्त ये सोचा

क्या ? कि इस पेड़ या पौधे को कितना कष्ट होता होगा

? आज तक कभी भी ये सोचा क्या  ? कि इस पौधे का

कोन सा अवयव (पार्टस) तोड़ रहे हैं |

हम सभी को सिर्फ एक ही आदत है | जो भी अच्छा दिखें उसे तोड़ो | जो भी उपर जाता है उसे नीचे गिराओ |

दोस्तों, ये अवयव उनका प्रजनन अंग है | कितनी खुशी होती होगी जिस पेड़ या पौधे को जिस  दिन फूल खिलता हैं |

लेकिन उसी दिन उसे तोड़ दिया जाता है | पल भर में उनकी खुशी गम में बदल जाती हैं |

काफि सारे ऐसे मंदिर है जहाँ पर फूलों को भगवान की मूर्ति के सामने दिखाकर बाजु में रख देते हैं|

मेरा मत कहता हैं कि क्या भगवान को पता नहीं है कि ये  कौन लाया ?

घरों में या मंदिरों में जो भी फूल चढा़या जाता है वो दोपहर या शाम के समय कचरे की पेटी में या नदियों में फेकतें हैं |

मेरा मत कहता हैं कि फूलों को कचरे की पेटी में या नदियों में नहीं फेकना चाहिए | क्योंकि

फूल सड़ जाने से वहाँ गंदकी हो सकती हैं | नदी का पानी खराब हो सकता है |

दोस्तों, मेरा मत कहता हैं कि भगवान को क्या चाहिए ? वो अभी तक किसी भी इंसान को पता ही नहीं चला |

इसलिए युगो से भगवान को फूल चढ़ाते आए हैं और चढ़ा रहे हैं |

मेरा मत कहता हैं कि अगर भगवान की पूजा ही करनी है तो सच्चे दिल से कीजिए या उनको याद कीजिए | आपकी पुकार जरूर सुनेंगे |

अपने कर्म अच्छे कीजिए | सबकुछ अच्छा ही होगा |

अब हम जनेंगे कि भगवान पर फूल क्यों चढ़ाते हैं  ?

भगवान पर फूल क्यों चढ़ाते हैं  ?

दोस्तों  , हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान को फूल चढा़ने का विशेष महत्व दिया गया है | अगर पूजा में फूलों का उपयोग नहीं होता है तो पूजा अधूरी मानी जाती हैं |

धर्मग्रन्थ कहते है कि 

देवताओं का सिर हंमेशा फूलों से सुशोभित रहना चाहिए |

देवता लोग  रत्न, सुवर्ण, द्रव्य, व्रत, तपस्या  या  ओर किसी चीज से उतने प्रसन्न नहीं होते, जितना फूल चढा़ने से होता हैं |फूल भगवान पर क्यों चढ़ाते हैं ? Phool Bhagwan par Kyo Chadhate hai ?

कहा जाता है कि फूलों से वास्तु दोष दूर होता हैं |

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के आसपास बगीचा होना चाहिए | घर के बाहर की वाटिका घर के वास्तु दोषो को समाप्त कर देती हैं |

दोस्तों  , फूल सुगंध और सौंदर्य का प्रतीक है | सभी फूलों के पौधे को घर की सकारात्मक ऊर्जा बढ़ानेवाला और जीवन में खुशहाली लेनेवाला माना गया है |

दोस्तों, मेरा कहने का मतलब यही है कि फूलों को पेड़ पौधो पर ही रहने दिया जाए | ता कि फूलों से ही नए बिज की उत्पत्ति होती हैं | नए बिज आते रहेंगे तो हर जगहों पर पेड़ पौधे रहेंगे | और हर जगहों पर फूल रहेगा | हर जगहों पर सकारात्मक ऊर्जा रहेगी | और वातावरण सुगंधित एवं खुशनुमा रहेगा |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगे तो लाईक और शेर जरूर करें |

धन्यवाद 

लेखक : योगेशभाई पटेल 

मेरी अन्य पोस्ट 

1. पति-पत्नी का संबंध कैसे मजबूत बनाएँ  ?

2. बरसात का मौसम ‘ वर्षाऋतु ‘ – निबंध 

3. गुरु पूर्णिमा क्यों मनायी जाती हैं  ? 

 

 

 

 

4 Comments on “फूल भगवान पर क्यों चढ़ाते हैं ? Phool Bhagwan par Kyo Chadhate hai ?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *