भक्ति ऐसी कौन सी की जाए की मोक्ष प्राप्ति हो सके ? Bhakti aisi kon si ki jaye ki moksh prapti ho sake ?

भक्ति ऐसी कौन सी  की जाए की मोक्ष प्राप्ति हो सके ? Bhakti aisi kon si ki jaye ki moksh prapti ho sake ?

भक्ति : नमस्कार दोस्तों,  ऐसी कौन सी भक्ति की जाए की मोक्ष प्राप्त हो सके ? कहा जाता है कि मनुष्य का जन्म ईश्वर प्राप्ति के लिए हैं | मोक्ष प्राप्ति के लिए है |तो जरूरी है भक्ति | क्योंकि

बिना भक्ति किए   मोक्ष संभव नहीं है |तो ऐसे में कोन सी भक्ति की जानी चाहिए  ?

दोस्तों , थोड़ी बहुत  जानकारी मुझे प्राप्त हुई   वो इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताने की कौशिश की है |

मोक्ष किसे कहते हैं  ?

मोक्ष याने जहाँ महासुख हैं , परमसुख है , परमानंद है , क्षण भर का दुःख नहीं है  , क्षण भर का कष्ट नहीं है , उसे मोक्ष कहते हैं |

दोस्तों, कहा जाता है कि हमारे हिन्दू धर्म में 33 हजार देवी देवताएँ हैं |इनमे से कौन से देव या देवी की भक्ति की जाए  ? क्योंकि 

माना जाता है कि जिस देव या देवी की भक्ति की जाए | उसी देवलोक मे जब हमारी आत्मा शरीर छोडती हैं तब जाती हैं |और तब तक वहाँ रहती हैं जब तक पून्य पूरे नहीं हो जाते |

पून्य पूरे होते ही फिर से जन्म -मरण की प्रक्रिया में आ जाते हैं |

ऐसा कौन सा कारण है कि हम जन्म मरण की प्रक्रिया में आते रहते हैं  ?

जन्म-मरण के चक्रव्यूह मे आने का कारण ही यही है कि उनके कर्म साथ मे ही रहता है |अच्छे कर्म से पून्य कमाता है और बुरे कर्म से पाप |

पून्य कमाने से जब तक पून्य पूरे नहीं हो जाते तब तक वो जिस देव की भक्ति करते थे उनके सानिध्य (शरण) में रहता है | और

बुरे कर्मो का फल भुगतने के लिए उन्हें कर्मो के आधीन  फिर से जन्म लेना ही पड़ता हैं |

ऐसी कौन सी भक्ति हैं जो कर्मो का बंधन ही ना रहे | जब तक कर्मो का बंधन रहेगा तब तक जन्म-मरण का चक्रव्यूह रहेगा ही रहेगा | क्योंकि

एक पल भी हम कर्म किये बिना नहीं रह सकते | सोते, जागते, उठते हर वक्त हमारा कर्म चालु ही रहता है |

घर्म की कुछ बातें

दोस्तों, इस संसार में इतने धर्म हो गए हैं कि किसकी बात करें ? लेकिन फिर भी एक बात तो जरूर बताना चाहता हूँ | कि

भक्ति ऐसी कौन सी की जाए की मोक्ष प्राप्ति हो सके ? Bhakti aisi kon si ki jaye ki moksh prapti ho sake ?

हर धर्म के अपने -अपने धर्म पुस्तक में खुद को महान बताया गया है | ऐसे में कौन सा धर्म सही है ये पता लगाना बहुत ही मुश्किल हो गया है |

क्योंकि कहा जाता है कि इस सृष्टि में मनुष्य की उत्पत्ति सिर्फ एक ही स्त्री -पुरुष से हुई हैं | लेकिन यहाँ अपने -अपने काम के आधीन

अलग -अलग जातियाँ हो गई | और अपने -अपने धर्म भी अलग हो गए |तो ऐसे में सही रास्ता ढूंढना मुश्किल हो गया है |

तो दोस्तों, अब हम बताने जा रहे हैं कि ऐसी कौन सी भक्ति की जाए की मोक्ष प्राप्ति हो सके  ? जिस के बारे में बताने जा रहा हूँ वो 

इस भक्ति से जुड़े हुए संतो द्वारा जानकारी प्राप्त हुई हैं | तो आइये जानते है..  

इस भक्ति से जुड़े हुए संतो क्या कहते हैं  ? 

कहते हैं कि जिस किसी ने पिछले जन्म मे कुछ

अच्छे कर्म किये होंगे उसी को ये भक्ति जानने, 

पढ़ने  या सुनना मिल सकता है | अन्यथा किसी

को ऐसे ही नहीं मिल सकती |

कहते हैं कि ये भक्ति महाकाल से भी परे है | ये भक्ति

महाकाल के चक्रव्यूह मे नहीं आती हैं | ये भक्ति

महाकाल से भी उपर बैठे  ‘परमात्मा राम’ की है | ये

कोई ‘सीता राम’ या ‘आत्माराम’ या कोई ‘श्री राम ‘ की

बात नही हो रही हैं | 

कहते हैं कि देवी-देवताओं की पूजा या भक्ति करना

गलत नहीं है |वे भी सही है लेकिन ये भक्ति महाकाल

के चक्रव्यूह मे बंधी हुई हैं | ये भक्ति करने से सुख शांति

मिल सकती हैं लेकिन महासुख नहीं |

ये भक्ति सिर्फ खुद कि आत्मा के लिए ही करनी है | 

कहते हैं कि  || राम || शब्द के उच्चार आपके किए हुए

कर्म कटते हैं | जो कर्म अभी कर रहे हैं उस कर्म का

कोई बंधन नहीं रहता | या ने सिर्फ पून्य ही अपने साथ

रहता है |

कहते हैं कि ये भक्ति बताने से या समजाने से समजना

मुश्किल है |  और समजमे न आने से विश्वास भी नहीं

आता है  |  आप खुद कोशिश करेंगे तो खुद को ही पता

चल जायेगा कि इस में है क्या  ? 

भक्ति ऐसी कौन सी की जाए की मोक्ष प्राप्ति हो सके ? Bhakti aisi kon si ki jaye ki moksh prapti ho sake ?

अगर आप एकांत जगह पर शांति से आधे घंटे तक रोजाना ये भक्ति करेंगे तो कुछ ही दिनों में कुछ ना कुछ तो अनुभव हो ही जाएगा  |

कहते हैं कि ये भक्ति सभी भक्तियों से अलग है | क्योंकि इसमे ऐसे ऐसे नियम हैं जो समाज के दूसरे धर्मो के नियमो से विरुद्ध हैं |

ये भक्ति करना बहुत ही आसान है |लेकिन उससे जुड़े रहना बहुत ही कठिन है |

क्योंकि समाज के साथ रह कर भी  समाज के रीती -रिवाजो को नहीं मानना या नहीं अपनाना हैं |

कहते हैं कि इसमे जुडते है तो आप देवी-देवताओं  की पूजा या अर्चना नहीं कर सकते |क्योंकि ये सभी देवताओं महाकाल के चक्रव्यूह मे बंधे हुए हैं |

इससे जुड़ने से ना कोई पूजा पाठ  , ना कोई उपवास  या ना कोई अनुष्ठान की जरूरत है | अगर जरूरत है तो सिर्फ 24 घंटे में 30 मिनिट उनकी भक्ति  करने की  | इनका कोई समय फिक्स नहीं है  |

कहते हैं कि अगर इनके नीति नियमो का पालन करेंगे तो आप जी ते जी  मरे हुए इंसान से भी बात कर सकते हैं  | इसमे कोई संदेह नहीं है |

कैसे करें ये भक्ति 

आप सीधा बैठकर या आपको बैठने में सरल लगे या

बैठ नहीं सकते तो कोई भी पोजीशन में  ||राम||  शब्द

का उच्चार श्वासोश्वास की क्रिया में लगातार बिना रुके

करना है |

दोस्तों, ऐसी थोड़ी बहुत जानकारी मैने यहाँ प्रस्तुत की

है  | ये पोस्ट पढ़कर आपके मन में बहुत सारे सवाल

आते होंगे  | तो आप जो भी सवाल हो वे comment

box मे जरूर लिखें | जवाब मिलने मे थोड़ा वक्त लग

सकता है  | क्योंकि ये सवालो का जवाब उनसे जुड़े

संतो से लेना होगा |

नोंध : ये पोस्ट किसी को ठेस पहोचाने  या गलत साबित करने के लिए नहीं है सिर्फ लोगों की   जानकारी के लिए हैं |

धन्यवाद 

लेखक : योगेशभाई पटेल 

ये भी पढ़े :

1. गुरु पूर्णिमा क्यों मनायी जाती हैं  ?

2. फूल भगवान पर क्यों चढ़ाते हैं  ?

 

 

 

 

9 Comments on “भक्ति ऐसी कौन सी की जाए की मोक्ष प्राप्ति हो सके ? Bhakti aisi kon si ki jaye ki moksh prapti ho sake ?”

  1. बिना गूरू मारगदरशन के भक्ति व मोक्क्ष सम्भव है क्या?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *