धन्यवाद की क्या कीमत है?

धन्यवाद की क्या कीमत है? 

धन्यवाद की क्या कीमत है?

आप पहले तो मेरे ऊपर हंसेंगे, फिर मेरी बुद्धि को कोसेंगे

अंत में यह सोच कर आगे बढ़ जाएंगे कि कौन इस फालतू सी बात पर बहस करे।

लेकिन आपको आश्चर्य तब होगा जब आपको पता चलेगा,

जो जो खिताब आप मुझे देने वाले थे उनके असली हकदार तो आप हैं।

मतलब आप मेरी बात को फालतू समझ रहे थे लेकिन फालतू साबित होंगे आप।

आप मेरे ऊपर हंस रहे थे लेकिन जब आपको मेरी बात का मतलब पता चलेगा तो आप

खुद मुस्कराएंगे।

इतना ही नहीं पहले आप मुझे कोस रहे थे मेरी बात सुनकर

अब आप अपनी बात को समझ कर खुद अपने आप को कोसेंगे

बस आपको असली बात यह समझ में आ जाए कि धन्यवाद की क्या कीमत है?

जी हां दोस्तों.आज यहां इस पोस्ट पर हम धन्यवाद की क्या कीमत है?

इस बात पर चर्चा और मशविरा करेंगे।

कुछ इस तरह से,,, 

 

धन्यवाद क्या है? 

आपको लगता होगा धन्यवाद एक शब्द है जो

आजकल की आधुनिक जीवन शैली में सहज ही हमारे मुंह से निकल आता है।

सच कहें तो यह धन्यवाद वह धन्यवाद नहीं है जिसकी यहां चर्चा होने वाली है।

यहां हम जिस धन्यवाद की चर्चा करने वाले हैं वह

रूटीन टाइप के  जबान से निकलने वाले धन्यवाद से हटकर है

। यहां जिस धन्यवाद की चर्चा की जाने वाली है वह है दिल से निकले धन्यवाद की।

दोस्तों धन्यवाद में बहुत ही ताकत है  अगर आप किसी को धन्यवाद कहते हैं

तो समझ लीजिए आप बहुत ही खास काम करते हैं।

धन्यवाद कह कर तो देखिये 

आपको लगता होगा कि अब मै यह कहने वाला हू कि थन्यवाद आप कहकर देखिए

सामने वाला आपको बहुत बड़ा फायदा पहुंचाने वाला है ।

दोस्तों हां यह बात सच भी है लेकिन मैं आपको यहां यह बताना चाहता हूं कि जब

आप कििसी को धन्यवाद कहते हैं तो सामने वाले से ज्यादा आपको सुकून का सुख मिलता है ।

एक सच्चा धन्यवाद कहने वाले को भी फायदा पहुंचाता है

जिसको बोला जाता है उसे भी सुकून पहुंचता है ।

इस लिए जब भी आपके सामने सचमुच धन्यवाद कहने का मौका आए

तो चूक या संकोच मत करिए।।

दिल से धन्यवाद करिए यकीन मानिए कहने और

सुनने वाले दोनो को ही यह शब्द असीम सुख पहुचाने वाला है।

हां याद रखिए दिल और आत्मा से कहा गया धन्यवाद

लग होता है

तथा जुबान से कहा गया धन्यवाद अलग होता है। 

 

धन्यवाद

के पी सिंह किर्तीखेड़ा 10092018

 

About KPSINGH

मैने बचपन से निकल कर जीवन की राहों में आने के बाद सिर्फ यही सीखा है कि "जंग जारी रहनी चाहिए जीत मिले या सीख दोनों अनमोल हैं" मैं परास्नातक समाज शास्त्र की डिग्री लेने के अलावा CTET और UP TET परीक्षाएं पास की हैं ।मैंने देश के हिन्दी राष्ट्रीय समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लेखन किया है जैसे प्रतियोगिता दर्पण विज्ञान प्रगति आदि ।

View all posts by KPSINGH →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *