तथ्यों के आइने में भारतीय कृषि

 

तथ्यों के आइने में भारतीय कृषि 

तथ्यों के आइने में भारतीय कृषि नामक इस पोस्ट के जरिए

आपको भारतीय कृषि से संबंधित कुछ जरूरी तथ्यों की जानकारी देना है।

मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि अगर आप प्रतियोगी छात्र होंगे

तो यह तथ्य आपके बहुत काम आएंगे।

लेकिन अगर आप छात्र भी नहीं होंगे एक जागरूक इंसान होंगे

तो भी मुझे विश्वास है कि यह तथ्य आपको पसंद आएंगे।

तो आइये चलते हैं भारतीय कृषि के खास खास तथ्यों की ओर,,, 

भारतीय कृषि एवं अर्थ व्यवस्था 

भारतीय अर्थव्यवस्था में आज वर्तमान में कृषि का योगदान 49% है।

इसीलिए भारतीय कृषि को भारतीय अर्थव्यवस्था का आधार कहा जाता है ।

कृषि क्षेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था के प्राथमिक क्षेत्र में गिना जाता है।

कृषि और इससे संबद्ध क्षेत्र में खेतीबाड़ी, मत्स्य पालन

 पशुपालन एवं बागवानी आदि की गिनती की जाती है।

कृषि योग्य भूमि की दृष्टि से विश्व में भारत का प्रथम अमेरिका का दूसरा तथा चीन का तीसरा है।

भारतीय राष्ट्रीय मत्स्य विकास बोर्ड हैदराबाद में है। राष्ट्रीय चावल शोध संस्थान कटक उड़ीसा में है ।

भारतीय डेरी निगम एवं राष्ट्रीय डेरी विकास बोर्ड आनंद गुजरात में है।

एग्री क्लीनिक्स एंड एग्री बिजनैस सेंटर्स स्कीम 2002 से चालू हुई थी।

किसान काल सेंटर स्कीम किसानों की समस्याओं के निदान हेतु 21 जनवरी 2004 से चल रही है।

इस स्कीम के तहत कोई भी किसान

18001801551पर फोन करके अपनी समस्या का निदान खोज सकता है।

भारत में इंटरनेशनल क्राप रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर

सेमीएरिड ट्रापिक्स का मुख्यालय पट्टनचेरू हैदराबाद में है।

जब मिट्टी की जांच नहीं हुई हो तो दलहनी फसलों में

उर्वरक पोषण तत्वों एन पी के का आदर्श अनुपात 1:2:1 रखना चाहिए। 

ड्रिप या टपक सिंचाई पद्धति इजराइल की खोज है।

उत्तर प्रदेश कृषि अनुसंधान परिषद् लखनऊ में है इसकी स्थापना 1989 में हुई थी।

आठवीं योजना के अंतर्गत योजना आयोग ने भारत

को 15 कृषि जलवायु प्रदेशों में विभक्त किया था।

राष्ट्रीय हार्टीकलचर मिशन एक केंद्र प्रायोजित योजना है।

जिसे 2005/6 में दसवीं योजना के दौरान प्रारंभ किया गया था।

भारत में राष्ट्रीय बागवानी मिशन 2005 में प्रारंभ हुआ था।

हैंडबुक आफ एग्रीकल्चर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् से प्रकाशित होती है ।

उत्तर प्रदेश में किसान बही योजना 1992 को प्रारंभ हुई थी।

राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना का प्रारंभ 1999 /2000 में किया गया था।

भारत में फसल बीमा योजना 1985 से प्रारंभ हुई थी।

जबकि राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना 1999 से प्रारंभ है।

धन्यवाद

के पी सिंह किर्तीखेड़ा 10092018

 

 

About KPSINGH

मैने बचपन से निकल कर जीवन की राहों में आने के बाद सिर्फ यही सीखा है कि "जंग जारी रहनी चाहिए जीत मिले या सीख दोनों अनमोल हैं" मैं परास्नातक समाज शास्त्र की डिग्री लेने के अलावा CTET और UP TET परीक्षाएं पास की हैं ।मैंने देश के हिन्दी राष्ट्रीय समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लेखन किया है जैसे प्रतियोगिता दर्पण विज्ञान प्रगति आदि ।

View all posts by KPSINGH →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *