इसरो का हिसआइस करेगा धरती की निगरानी

इसरो का हिसआइस   करेगा धरती की   निगरानी 

इसरो का हिसआइस करेगा धरती की निगरानी

जी हां दोस्तों, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान यानी इसरो की

नवीनतम उपलब्धि है उपग्रह हिसआइस जो इसरो के न केवल सबसे लम्बे अभियानों में एक है

बल्कि पांच साल की अवधि लेकर निकला इसरो का

हिसआइस अब धरती की निगरानी का काम भी करेगा।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी इसरो ने 29 नवंबर को

भारत का 1 तथा दुनिया के 8 देशों के 30 अन्य उपग्रह लेकर अंतरिक्ष गया है।

वास्तव में इसरो का अति महत्वपूर्ण उपग्रह हिसआइस धरती की

निगरानी करने के लिए बनाया गया है।

हिसआइस का विस्तार है हाइपर स्पेक्ट्रल इमेजिंग सेटेलाईट।

क्या है इसरो का   हिसआइस? 

इसरो का हिसआइस करेगा धरती की निगरानी यह बात तो ठीक है

लेकिन यह हिसआइस क्या है इसे जानने के लिए हमें आगे की पंक्तियों तक जाना होगा।

इसरो ने हिसआइस यानी हाइपर स्पेक्ट्रल इमेजिंग सेटेलाईट नामक उपग्रह को

आंध्रप्रदेश के श्री हरिकोटा लांचिंग पैड से 29 नवंबर को लांच किया है।

यह उपग्रह जिस मिशन का हिस्सा है उसकी अवधि पांच साल है।

हिसआइस को इसरो ने जिस उद्देश्य से पीएसएलवीसी 43 के जरिए अंतरिक्ष में भेजा है

वह है धरती की निगरानी करना, जी हाँ पूरी धरती की निगरानी करना।

धरती की निगरानी का मतलब है विद्युत चुम्बकीय स्पेक्ट्रम के इन्फ्रारेड और

शार्टवेव इन्फ्रारेड क्षेत्रों के नजदीक पृथ्वी की सतह का अध्ययन करना।

ध्यान रहे इसरो ने अपने उपग्रह हिसआइस के साथ ही आठ अन्य देशों के

कुल 30 उपग्रहों को भी उनकी कक्षा में स्थापित किया है।

भारत के अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान ने जिन 8 देशों के उपग्रहों को अंतरिक्ष भेजा है

उनमे अकेले अमेरिका के 23 उपग्रह हैं तथा इसके  साथ ही साथ

बाकी 7 देशों के 1-1 उपग्रह हैं जैसे आस्ट्रेलिया, कनाडा

कोलंबिया, फिनलैंड, मलेशिया, नीदरलैंड और स्पेन। 

इसरो का कारनामा है हिसआइस 

हिसआइस उपग्रह को छोड़ना ही इसरो का कारनामा नहीं है

और न ही हिसआइस के साथ भेजे गए 8 देशों के 30 अन्य उपग्रह ही वास्तविक कारनामा हैं।

इसरो का असली कारनामा है एक महीने के अंदर दूसरे अभियान को

सफलता पूर्वक संचालित करने की हैसियत का प्रमाण दे देना। 

 

धन्यवाद

के पी सिंह किर्तीखेड़ा 01122018

 

About KPSINGH

मैने बचपन से निकल कर जीवन की राहों में आने के बाद सिर्फ यही सीखा है कि "जंग जारी रहनी चाहिए जीत मिले या सीख दोनों अनमोल हैं" मैं परास्नातक समाज शास्त्र की डिग्री लेने के अलावा CTET और UP TET परीक्षाएं पास की हैं ।मैंने देश के हिन्दी राष्ट्रीय समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लेखन किया है जैसे प्रतियोगिता दर्पण विज्ञान प्रगति आदि ।

View all posts by KPSINGH →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *