अद्भुत अद्वितीय बेमिसाल हैं हमारी सेनाएं

अद्भुत अद्वितीय बेमिसाल हैं हमारी सेनाएं 

अद्भुत अद्वितीय बेमिसाल हैं हमारी सेनाएं

यह केवल कोरी कल्पना  या महज हमारी खुशफहमी भर नहीं है 

बल्कि यह 100%सच है कि भारत की आज तीनों सेनाएं

जल सेना, थल सेना, वायुसेना अद्भुत, अद्वितीय और बेमिसाल हैं।

भारतीय वायुु सेना और भारतीय थल सेना ने अभी अभी

26 फरवरी 2019 को रात में 3:30 बजे  पाकिस्तान के अंदर

उसकी अपनी जमीन में संचालित जैश ए मुहम्मद और हरकत उल अंसार जैसे

खतरनाक आतंकी अड्डों को नेस्तनाबूद किया है।

यह बेहद अद्वितीय घटना है क्योंकि सच कहें तो ओसामा बिन लादेन को

ढूंढने और  उसे मारने में अमेरिका जैसी विश्व शक्ति को दसियों साल लग गए थे

जबकि 

भारत ने उसी एटमाबाद के पास अपने बदले की कार्रवाई को

महज 12 दिन में सफलता पूर्वक अंजाम दिया है।

यह पूरे विश्व को दांतों तले उंगलियां दबाने के लिए पर्याप्त है।

 

 

 

भारतीय प्रतिरक्षा की कहानी 

आपको पता होना चाहिए कि 1946 से पहले हमारी भारतीय रक्षा प्रतिरक्षा पर

पूरा नियंत्रण अंग्रेजी सरकार के हांथों में था। 1946 में जब केंद्र में अंतरिम सरकार बनीं तो

भारत में पहली बार देश का रक्षा मंत्री एक भारतीय को बनने का मौका मिला।

यह मौका पाने वाले यानी अंतरिम सरकार में एक भारतीय के रूप में

पहले रक्षा मंत्री बनने वाले बल्देव सिंह थे।

जब हमारे देश को आजादी मिली और 1947 में देश का विभाजन हुआ तो

भारत के हिस्से में 45 रेजीमेंटें मिली थीं जिनमें कुल सैनिकों की संख्या 2.5 लाख थी।

भारत को गोरखा फौज की 6 रेजीमेंट  भी मिली थीं जिनमें कुल 25000 सैनिक थे।

भारतीय सेना जिंदाबाद 

आपको बता दें कि भारत को आजादी मिलने के बाद अंग्रेजी सेना की अंतिम टुकड़ी

सामर सैट लाइट इंफेनट्री 28 फरवरी 1948 को भारत भूमि से विदा हुई थी।

परामर्श के लिए भले ही कुछ अंग्रेजी सैन्य अफसर भारत में इसके बाद भी रहे थे

लेकिन 26 जनवरी 1950 को भारतीय प्रतिरक्षा को

पूर्णतः भारतीय गणराज की संप्रभु सेना में बदल दिया गया था।

आपको यह भलीभांति पता होगा कि भारतीय रक्षा सेनाओं का सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति होता है

लेकिन देश की रक्षा सुरक्षा का दायित्व केंद्रीय मंत्रिमंडल की होती है।

देश की रक्षा सुरक्षा से संबंधित सभी महत्वपूर्ण मामलों का फैसला

कैबिनेट कमेटी आन पालिटिकल अफेयर्स करती है जिसका अध्यक्ष

भारत का प्रधानमंत्री होता है।

 

भारतीय सेनाएं हैं हमारी शक्ति 

भारत का रक्षा मंत्री रक्षा सेवाओं से संबंधित सभी विषयों के बारे में

संसद के समक्ष उत्तरदायी होता है।

आप को यह भी बता दें कि रक्षा मंत्रालय में चार विभाग होते हैं

ये हैं

रक्षा विभाग, रक्षा उत्पादन विभाग, रक्षा आपूर्ति विभाग और

रक्षा विज्ञान एवं अनुसंधान विभाग।

आपको बता दें कि आज भारत की थल सेना दुनिया की चौथी सबसे शक्तिशाली

और बड़ी सेना है।

भारत की वायुसेना पांचवें स्थान पर और जल सेना विश्व में 7 वें स्थान पर है। 

About KPSINGH

मैने बचपन से निकल कर जीवन की राहों में आने के बाद सिर्फ यही सीखा है कि "जंग जारी रहनी चाहिए जीत मिले या सीख दोनों अनमोल हैं" मैं परास्नातक समाज शास्त्र की डिग्री लेने के अलावा CTET और UP TET परीक्षाएं पास की हैं ।मैंने देश के हिन्दी राष्ट्रीय समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लेखन किया है जैसे प्रतियोगिता दर्पण विज्ञान प्रगति आदि ।

View all posts by KPSINGH →

2 Comments on “अद्भुत अद्वितीय बेमिसाल हैं हमारी सेनाएं”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *