Motivational story ( मेरे विचारों का एक मंदिर सफलता की एक कहानी )

Motivational story ( मेरे विचारों का एक मंदिर सफलता की एक कहानी )

 हेलो,

दोस्तों नमस्कार मेरा नाम एस. नायक है  । और आज की हमारी इस पोस्ट में हम पढ़ेंगे एक  motivational story ( मेरे विचारों का एक  सफलता की एक कहानी ) ।

क्या करें :-  

  1. सफलता पाने के  आत्मविश्वास बनाए रखना आवश्यक है।
  2. बार बार असफल होने पर फिर से प्रयास करना आवश्यक होगा ।
  3. स्वयं को पहचानना बहुत आवश्यक होगा ।
  4. जीवन में अपने आप को बदलना होगा ।
  5.  स्वयं को सोच समझकर निर्णय लेना होगा ।
  6. अपना एक निर्धारित लक्ष्य बनाकर कार्य करना होगा ।
  7. दूसरों पर निर्भर रहने के बजाय प्रत्येक कार्य को स्वयं को करना होगा ।
  सफलता –  आज के समय में प्रत्येक व्यक्ति सफल होना चाहता है। लेकिन सफलता पाने के लिए निरंतर प्रयास करना पड़ता है। सफलता किसी दुकान पर या किसी बाजार में खरीदी जाने वाली वस्तु नहीं  यह तो स्वयं पर निर्भर करती है।

Motivational story ( सफलता की कहानी ) 

एक समय की बात है एक गांव के पास जंगल में एक मंदिर था । उस मंदिर में जाने से लोग डरते थे । उस मंदिर को लोग मृत्यु मंदिर के नाम से जानते थे । कोई भी लोग उस मंदिर के आस-पास नहीं जाता था । और ऐसा इसलिए था क्योंकि उस मंदिर में आज तक जो भी मनुष्य गया है वह कभी भी वापस लौट कर नहीं आया लोग उस मंदिर के बारे में सोच-सोच कर डरते रहते हैं ।

 

परंतु अब तक उस  मंदिर में 200 लोग जा चुके थे ।  और उनमें से कोई भी लौट कर वापस नहीं आया ।  एक बार गांव में शहर से एक युवक आया और उसे ऐसे अंधविश्वासों पर विश्वास नहीं हुआ आज के समय में ऐसा भी हो सकता है । उसने तय किया कि वह उस मंदिर में अवश्य जावेगा जैसे ही गांव के लोगों को यह पता चला कि वह युवक उस मंदिर में जाएगा तो सभी उसके घर जाकर उसे समझाने लगे कि तुम उस मंदिर में क्यों जाना चाहते हो । अगर तुम जाओगे तो लौट कर वापस नहीं आ पाओगे । किंतु उसने गांव के सभी लोगों  की बात नहीं मानी और वह अगले ही दिन सुबह होते ही उस मंदिर की ओर चला गया और वह मंदिर में जाने लगा जैसे ही मंदिर में अंदर जाते ही उसे अंधेरा दिखाई दिया ।धीरे-धीरे वह अंदर आ गया तभी उसे लगा कि उसके पीछे कोई आ रहा है और उसको पीछे से धक्का दिया ।

वह पीछे मुड़कर देखा तो वह चार व्यक्ति खड़े थे । वह उन से डरा नहीं तो उसे बांधकर मंदिर में एक ऐसी जगह ले गए । जहां उसने देखा कि वह जगह बहुत ही सुंदर थी और वहां सब सुख सुविधाएं उपलब्धि थी । उन चारों लोगों ने उसे बताया कि हम सभी भी इस मंदिर में तुम्हारी तरह आए थे पर यहां पर इतनी सुख-सुविधाएं देखकर हम सभी लोग यहीं रुक गए । हमने तुम्हें डराने के लिए तुम्हें धक्का दिया था लेकिन तुम डरे नहीं ।  पर अब उस युवक को भी मंदिर की सुख सुविधाएं बहुत अच्छी लगी और उसने भी यहीं रहने का निश्चय कर लिया । लेकिन उसने वहां रहने से पहले मंदिर के बाहर जाकर लोगों के डर को निकाला और मंदिर की सच्चाई बताइ ।

कहानी का संदेश –

इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि हमें किसी के डराने से कभी नहीं डरना चाहिए । कोई भी नया कार्य करने से पहले अधिकतर लोग डरते भी हैं और डराते भी हैं । लोग कहते हैं कि इस कार्य को करोगे तो तुम्हारे साथ ऐसा होगा वैसा होगा । हमने ऐसे कार्य तो पहले बहुत किए हैं । जैसे अगर हमें नया बिजनेस स्टार्ट करना होता है तो हम किसी से सलाह लेते हैं तो हमको पहले वही सुनने को मिलता है कि ऐसा कोई बिजनेस नहीं होता तुम्हें बेवकूफ बनाते हैं और हम भी बाकी गांव के लोगों  डर जाते है । और हमारी जिंदगी में कोई बदलाव नहीं आता है ।

और उस युवक की तरह डर पर विजय पा लेते हैं और उस कार्य को कर लेते हैं तो हम हमारी जिंदगी मैं अनेक बदलाव कर सकते हैं । हमेशा सोच समझकर निर्णय लेना चाहिए ।

आशा करता हूं कि यह पोस्ट motivational story (  मेरे विचारों का एक सफलता की एक कहानी ) आपको पसंद आई होग । आप भ अपनी साहस और शक्ति से कार्य को शुरू करेंगे ।

उठो जागो और लक्ष्य प्राप्ति तक रुको मत !

( स्वामी विवेकानंद )

धन्यवाद ,

लेखक – एस. नायक

3 Comments on “Motivational story ( मेरे विचारों का एक मंदिर सफलता की एक कहानी )”

  1. सफलता की राह में चलने वालों को अक्सर ऐसे ही वाकये से गुजरना पड़ता है। लेकिन धैर्य और साहस से सभी बाधाएं समाप्त हो जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *