बुद्विमान बनने का अचूक उपाय,The perfect remedy for becoming a Buddhmiman

हमारा चमत्कारी मस्तिष्क: कैसे रखें इसे दुरुस्त ?

  बुद्विमान बनने का अचूक     उपाय –

नमस्कार दोस्तो आज मैं आपको बुद्विमान बनने का एक उपाय बताने जा रहा हूँ। इसे समझने के लिए इसे पूरा पढ़े।। 

1-अपने विचारों से।               2-दुसरो से सीख कर।            3-अपने अनुभवो से।

आईये जानते है इसका अर्थ 

 दुसरो से सीख कर- आइये सबसे आसान तरीका से शुरू करते है दुसरो के भाव विचारो को अपने मे धारण करके दुसरो से बात कर उनसे ज्यादा से ज्यादा सवाल करके उनके अनुभवो से उसने बहुत कुछ सीखा होगा जो आप को काम आ सकता है।

आप दूसरों के जीवन के ऊपर लिखी गई किताबे भी पढ़ सकते है जैसे धीरूभभाई अम्बानी ,द गूगल गाइस जैसे किताबो को पढ़ कर उन्होंने क्या किया कैसे किया कैसे किया इनका क्या कारण था दुसरो से डिस्कस करे आपने इस किताब से क्या क्या सीखे।  

अपने विचारों से- 

👦 बुद्विमान व्यक्ति बनने के लिए सबसे पहले अपने विचारो को परिवर्तन करना होगा। अपने दिमाग को कोई भी वर्क होता है उनके बारे में विदिवत जान ले तब उस कार्य को आगे बढ़ाए।    आपको हम्बल रहना भी जरूरी है।

हम्बल का मतलब ये नही की दुसरो के सामने अपने को कम या ज्यादा समझें आप दूसरों के सामने अपने बारे में ज्यादा न बताये नही तो ये समझेगे की आप अपने आप को खुद की तारीफ कर रहे हो हा ये भी हो सकता है कि वह व्यक्ति आप से ज्यादा टैलेंट हो उनसे कुछ सीखेने को मिलेगा न कि उनका उपहास उड़ाए।

अपने अनुभवो से-

अपने अनुभवो से व्यक्ति👦बहुत कुछ सिखता है कोई भी गलती होता है तो फिर उस गलती को हम नही दोहराना चाहते। फिर हम उस गलती को नही करते कहानी के तौर पर जब बालक छोटा रहता है वे जब लालटेन के पास जाता है वे लालटेन को छूता है तो उसे लगता है कि मेरा हाथ जल गया तो फिर वे अपना हाथ उस लालटेन के पास नही ले जाएगा।

इसी तरह हम भी अपने गलतियों को सीख कर हम उस गलती को नही दोहराते। कभी भी हमे अपने मे गलतिया निकालने को सीखना चाहिए।

जिस दिन हुम् अपनो में गलतिया ढूढ़ने को सीख जायेगे हमारे में बुद्धि का विकास खुद पे खुद हो जायेगा।

मैं आशा करता हूँ कि ये आर्टिकल आपको पसन्द आया होगा।।

लेखक- राज चौरसिया।

ईमेल- raj03111999@gmail.com

About RAJ CHAURASIYA

Student

View all posts by RAJ CHAURASIYA →

2 Comments on “बुद्विमान बनने का अचूक उपाय,The perfect remedy for becoming a Buddhmiman”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *