बेवफा कोन

बेवफा कोन

बेवफा कोन अाज में अापको एक एसी रियल कहानी बताते हैं। ये कहानी उत्तर प्रदेश की हैं। ये किस गाँव की है ये मैं अापको नही बता पायेंगे, जहाँ एक गाँव  मे एक लड़का एक  पास के ही गाँव की एक लड़की से प्यार करता था।  ये उनके प्यार की कहानी तब की है जब वह स्कूल मे पडते थे। एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे। उन दोनों के कोई बेवफाई नहीं थी। एक दिन वो अाता हैं। जब लड़के की फोज मे नोकरी लग जाती हैं।

अब वह एक दूसरे से दूर हो गये। लेकिन उनका प्यार कम नही  हुआ।

लड़के का नोकरी से घर अाना

लड़का जब नोकरी से  छुट्टी लेकर घर आता है। लड़के के मन में बहुत सारे अरमान होते है कि हम जब अपनी जान से मिलगें तो वह बहुत खुश होगी। लड़का उस लड़की से मिलने जाता है तो लड़की उसे देख बहुत खुश होती है। अौर दोनो अपने प्रेम की कहानी सुनाते हैं। फिर दूसरे दिन मिलने का बादा कर देते हैं। लेकिन लड़का जब घर अाता है तो सोचता है कि मैं अब एक दूसरे से दूर नही रह सकते हैं।

अगर मेरी जान ने मेरे साथ कोई भी बेवफाई की तो मैं अपनी जान  दे दूंगा।

लड़का अपने घर से अपने पिता की पिस्तौल लेके लड़की से मिलने अाता हैं।

दोनों एक जगह पर मिलते, तब लड़का उस लड़की से साथ में चलने को बोलता है। लेकिन लड़की कहती है कि में अापके साथ भाग के नही जा सकती हूँ। अाप मुझसे सादी करके ले चलो, तभी लड़का कहता है कि तुम बेवफा हो तुम मुझसे प्यार नहीं करती हो, अौर लड़का पिस्तौल निकालता हैं। अौर अपने गोली मार लेता है। यह हाल लड़की देख कहती है कि हम बेवफा नहीं है।

हम भी आपके साथ आते हैं।

लड़की भी अपने गोली मार लेती है।  लेकिन लड़का की मृत्यु हो जाती हैं।

अौर लड़की बच जाती हैं।

तो इस कहानी में किसी को भी बेवफा नहीं कह सकते है।

नोट-  यह रियल कहानी है लेकिन मैं इसमें किसी का नाम नही बता सकता हॅू। 
नोट – नीचे दिये गये टाइटल की जानकारी के लिये उस  टाइटल पर क्लिक करें।

                    धन्‍यवाद

                                                                                                             भूपेश कुमार

7 Comments on “बेवफा कोन”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *