Gautam Buddha Inspirational Story In Hindi

Jaago Samay Haath Se Nikala Ja Raha Ha

 Gautam Buddha Inspirational Story In Hindi - Jaago Samay Haath Se Nikala Ja Raha Hai

   Gautam Buddha Inspirational Story In Hindi

       Gautam Buddha :  बुद्ध कही प्रवचन दे रहे थे ।अपने प्रवचन खत्म करते हुए उन्होंने आखिर में कहा जागो जागो समय निकला जा रहा है,सभा विसर्जित हो जाने के बाद उन्होंने अपने प्रिय शिष्य आनंद से कहा चलो थोड़ी दूर चल कर आते है।

आनंद बुद्ध के साथ चल दिये अभी वे बिहार के मुख्य दरवाजे तक पहुचे थे कि एक किनारे रुक कर खड़े हो गए ।

प्रवचन सुन ने आये लोग एक एक करके बाहर निकल रहे थे ।इस लिए भीर सी हो गयी थी।अचानक उसमेंसे एक स्त्री निकल कर गौतम बुद्ध से मिलने आयी ।

उसने कहा में एक नृत्यकी हु,आज नगर सेठ के गर मेरे नृत्य का कार्यक्रम पहले से तेय था । लेकिन में उसके बारे में भूल चुकी थी । आपने कहा समय निकलता जा रहा है, तो मुजे तुरंत उस बात की याद आ गयी।

उसके बाद एक आदमी बुद्ध की ओर आया , उसने कहा में आपसे कोई बात छुपाउँग नही । में भूल गया थाकि आज मुजे ये जग डाका डालने जाना चाहिए था। की आज उद्देश्य सुनते ही मुजे अपनी योजना याद आ गयी।

बहुत धन्यवाद , उसके जाने के बाद धीरे धीरे चलता हुआ एक बूढ़ा व्यक्ति बुद्ध के पास आया वृद्व ने कहा जिंदगी भर दुनिया डारि की चीजो की पीछे भागत रहा , अब मोत का सामना करने का दिन नजदीक आता जा रहा है।

Gautam Buddha

तब मुजे लगता है कि सारी जिंदगी युही बेकार गुजर दी। आपकी बातों से आज मेरी आँखें खुल गयी आजसे में अपनी सारी दुनिया डारि मोह चोर कर आत्मज्ञान करने की कोसिस करूँगा।

जब सब लोग चले गए तो बुद्ध ने कहा देखो आनंद प्रवचन मेने एक ही दिया लेकिन उसका हर किसी ने अलग अलग मतलब निकला ।

जिसकी जितनी जोली होती है उतना ही वो समेत पता है। ज्ञान प्राप्ति के लिए भी मन की जोली को उसके लायक होना होता है। इसके लिए मन का सुद्ध होना बहुत ही जरूरी है।

दोस्तो उम्मीद करता हु ये पोस्ट भी आपको बहुत अच्छी लगी होगी । धन्यवाद।

About Aakash khalasi

i am khalasi aakash , i am complet diploma electrical engineering ,and treing in torrent power,but not intrest in compney ,my intrest is writing,so i am live frome surat,

View all posts by Aakash khalasi →

6 Comments on “Gautam Buddha Inspirational Story In Hindi”

  1. लाजवाब पोस्ट है | व्यक्ति जैसा कर्म करता है वैसे ही उसके विचार बन जाते हैं |

  2. बहुत अच्छा वर्णन है जिसकी जितनी समझ है वैसी ही उसकी सोच है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *