जीवन का उद्देश्य अधिक जीने से नहीं,बल्कि अधिक सम्मान पाने से है,

      जीवन का उद्देश्य अधिक जीने से नहीं,बल्कि अधिक सम्मान पाने से है,

    जीवन का उद्देश्य अधिक जीने से नहीं,बल्कि अधिक सम्मान पाने से है,

bolbam :- एक विशेष धार्मिक एव  रोजहार  कल्याण संगठन  है जिसकी शुरूआत श्री अविनाश श्रीवास्तवा जी ने एक गैर-सरकारी संगठन के माध्यम से स्वयं को समाज के कल्याण के लिए सर्मित  किया  है, और एक बड़े पैमाने पर मानव जाति के कल्याण के लिए अनेक प्रकार के प्रयासों के माध्यम से बोलबम एक विशेष धार्मिक एव  रोजहार  कल्याण संगठन  की शुरूआत कि है  धार्मिक, व रोजगार,   कल्याण, स्वस्थ्य, शिक्षा, नौकरी, रोजगार और महिला सशक्तिकरण जैसी कई सामाजिक कल्याणकारी गतिविधियां में लगे | अविनाश श्रीवास्तव जी  की कड़ी मेहनत का उद्देश्य,

संगठन का परिचय:‌- बोलबम एक विशेष धार्मिक एव रोजगार  कल्याण संगठन मे  आप सभी लोग का स्वागत करता है ! आपको यह जानकार बेहद ख़ुशी होगी की “Special bolbam Welfare Organization” भारत की पहली और एक मात्र ऐसी संस्था है जो करीब 5 लाख लोगों के सहयोग से बनाई गयी हैं | जिसका हर व्यक्ति बराबर का हिस्सा भी है| और ये गरीबों और बेरोजगारों के द्वारा बनाया गया सबसे श्रेष्ठ व अच्छा संगठन है, जिसका एक मात्र उद्देश्य अधिक से अधिक लोगों को रोजगार दिलाना व मानव जाति के  कल्याण प्रदान करने में सहयोग प्रदान करना और सभी जरूरत मंदों के सहयोग से सभी के लिए रोजगार का निर्माण करना है |

 

बोलबम एक विशेष धार्मिक एव रोजगार  कल्याण संगठन मे सदस्य दो प्रकार के बनाया जाता है  एक आनलाइन व आपलाईन इसमे मानव जाति का कोई भी आदमी 301 रुपया देकर सदस्य बन सकता है सदस्य को बोलबम एक विशेष धार्मिक एव रोजगार  कल्याण संगठन कि तरफ से एक परिचय पत्र व 2 लाख का बीमा दिया जायेगा व सावन माह मे बोलबम संस्था दारा जो भी कार्यक्रम किया जाता है उसकी सभी जानकारी  मेसैस  दारा फोन दारा दिया जायेगा

 

स्पेशल बोलबम वेलफेयर आर्गेनाइजेशन के सपोर्ट प्रोग्राम में आपका स्वागत है! आपको यह जानकार बेहद ख़ुशी होगी कि भारत में पहली बार बहुत जल्द आप लोग के द्वारा एक ऐसा विश्वस्तरीय रोजगार प्लेटफार्म तैयार किया जा रहा है जिसमें पहली साल में ही 5 लाख बेरोजगार लोगों को रोजगार प्रदान किया जायेगा जो ऑनलाइन  इन्टरनेट के द्वारा और ऑफलाइन  अपने घर से  काम करके कोई भी व्यक्ती जो कम से कम बोलबम एक विशेष धार्मिक एव रोजगार  कल्याण संगठन   का सदस्य कर, वो बड़ी ही आसानी से अच्छी इनकाम कर पायेंगा और अपनी बेरोजगारी की समस्या को दूर कर अपने जीवन को खुशियों से भर पायेगा! ( संस्था अनपढ़ से लेकर पोस्ट-ग्रेजुएट तक के सभी मेम्बेर्स के लिए रोजगार की व्यवस्था कर रही है )

अतः स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन  का अपने सभी दर्शकों, पाठकों, सुभचिंतकों और अन्य सभी सम्मानीय जन से आग्रह है कि देश हित और जन कल्याण के कार्य में अपना योगदान प्रदान कर, “नव भारत!! कुशल भारत!!सम्रद्ध भारत!!” के निर्माण में ज्यादा नहीं तो कम से कम अपनी तरफ से रू० 301/- या उससे अधिक जो आपकी इच्छा हो का सहयोग जरूर करें ! यह संस्था आपके जीवन को सुखमय, सुंदर और आनंदमयी करने के लिए 5 लाख लोगों के सहयोग से प्रयासरत है. आपका सपोर्ट सराहनीय है |

बोलबम एक विशेष धार्मिक एव रोजगार  कल्याण संगठन जुड्ने के लिये समर्पक करे 9984716657

                                                          लेखक अविनाश श्रीवस्तव

 

 

About avinash srivastava

sir me aap ke sath kam karna chahta hu

View all posts by avinash srivastava →

6 Comments on “जीवन का उद्देश्य अधिक जीने से नहीं,बल्कि अधिक सम्मान पाने से है,”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *