What is hemorrhoids symptoms, precautions and ayurvedic remedies ( बवासीर क्या होता है लक्षण सावधानियां और आयुर्वेदिक उपचार )

 What is hemorrhoids Symptoms,  precautions and ayurvedic remedies ( बवासीर क्या होता है लक्षण सावधानियां  और आयुर्वेदिक उपचार )

हेलो,

दोस्तो नमस्कार मेरा नाम एस.नायक  है । आज की  हमारी इस पोस्ट  में आपका स्वागत है। हमारी इस पोस्ट में यह जानकारी दी जा रही है। की बवासीर क्या होता है, बवासीर के क्या लक्षण होते हैं, इससे बचने के लिए क्या सावधानियां बरतनी चाहिए और इसके आयुर्वेदिक इलाज के बारे में बताया गया है।

बवासीर क्या होता है ( what is hemorrhoids ) –

आपने कभी बवासीर या मस्सा का नाम सुना होगा ।  शायद आपको मालूम भी होगा की बवासीर क्या होता है यह एक बहुत ही खतरनाक बीमारी  दुनिया की सबसे खतरनाक बीमारी है यह एक गुप्त रोग है जिसको हमें लोगों को बताने में शर्म आती है और इसका इलाज करवाने में भी बहुत सारी परेशानियां होती है।  यह बीमारी हमारे शरीर के गुप्त भाग में होती है वह भाग है मलद्वार ।

बवासीर दो प्रकार की होती है –

  1.  खूनी बवासीर
  2.  बादी बवासीर

खूनी बवासीर क्या होता है –

खूनी बवासीर में जब हम लैट्रिंग जाते हैं तो लैट्रिंग करते समय खून टपकता हो या फिर ज्यादा समय तक बैठे रहने पर कपड़े खून से रंग जाते हो उसे खूनी बवासीर कहते हैं।

बादी बवासीर क्या होता है –

बादी बवासीर में मलद्वार  के गेरे पर  चारों ओर गाटे हो जाती है । और मलद्वार पर सूजन आ जाती है तो उसे बादी बवासीर कहते हैं ।

बवासीर  के लक्षण –

  •  मलद्वार पर खुजली चलना ,
  •  मलद्वार पर जलन होना ,
  •  मलद्वार से खून आना ,
  • मलद्वार के चारों ओर क्या किसी एक तरफ गांठे पढ़ना ,
  • लेट्रिंग करने में परेशानी होना ,
  •  मलद्वार पर सूजन आना आदि ,

बवासीर  है तो बवासीर से बचने के लिए क्या सावधानियां रखें –

  1.  कब्ज  होने से हमेशा स्वयं को बचाएं ,
  2.  दिन में पांच-छह लीटर पानी पिएं ,
  3.  मिर्च मसालों का कम से कम उपयोग करे ,
  4. तरल पदार्थों का सेवन ना करें,
  5.   बेसन का सेवन ना करें ,
  6.  आलू का सेवन ना करें,
  7. बैंगन का सेवन ना करें,
  8. हल्का भोजन खाएं,

बवासीर का 100 % घरेलू एवं आयुर्वेदिक इलाज-

500 ग्राम – नीम की निमोली को कूटकर निकाला हुआ चूर्ण ।

300 ग्राम – खाने का गुड ।

  और एक प्लास्टिक का डिब्बा ।

विधि –

 सबसे पहले हम नीम की निमोली से निकला हुआ चूरन लेंगे और गुड को अच्छी तरह मिला लेंगे अच्छी तरह मिलाने के बाद दस-दस  ग्राम की गोलियां बना लेनी है और डिब्बे में डाल कर रोजाना सुबह खाली पेट एक गोली का सेवन करना है । 10 से 15 दिनों में आपका बवासीर ठीक हो जाएगा।

बवासीर का सबसे सस्ता इलाज-

बवासीर से बचने के लिए रोजाना जितना पानी पिया जाए उतना पिय पानी पीने से बवासीर आपको अत्यधिक परेशान नहीं करेगा ।

 

 

 

4 Comments on “What is hemorrhoids symptoms, precautions and ayurvedic remedies ( बवासीर क्या होता है लक्षण सावधानियां और आयुर्वेदिक उपचार )”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *