भौतिक जीवन में भौतिक विज्ञान

भौतिक जीवन में भौतिक विज्ञान 

भौतिक जीवन में भौतिक विज्ञान शीर्षक का अर्थ यह है कि,

मनुष्य अपने आधुनिक जीवन में ही इतना विज्ञान प्रेमी हो गया है कि,

उसका सम्पूर्ण जीवन ही अब आधुनिक वैज्ञानिक जीवन कहलाता है।

किसी भी  विषय के क्रमबद्ध  व सुव्यवस्थित ज्ञान को ही विज्ञान कहते हैं,

और “विज्ञान की जिस शाखा में हम अपने आस

पास के भौतिक ज्ञान को विकसित आरते हैं  तो 

उसे हम भौतिक विज्ञान अथवा भौतिकी कहते हैं।

दोस्तों आज आपको इस लेख में वही सब पढने के लिए मिलेगा,

जिसके अस्तित्व से ही भौतिक विज्ञान परिभाषित है,

अर्थात भौतिक विज्ञान के बारे में वो सब पढने को मिलेगा जो हमें पढना चाहिए। 

भौतिक विज्ञान ने दिया है इकाई और मात्रक 

भौतिक जीवन में भौतिक विज्ञान का इस बात सेभी मतलब है कि, 

आज हमारा जीवन यदि पूर्व की तुलना में बेहतर है तो भौतिक विज्ञान की देन भी इसमें शामिल हैं।

दोस्तों, भौतिक विज्ञान ने हमारे आपके जीवन में

जो कमाल किया है उसमें उसका पहला कमाल है मात्रक और ईकाई प्रदान करना। 

इनका विवरण इस प्रकार है :

🔵शक्ति का मात्रक :वाट है। 

🔵बल का मात्रक न्यूटन है

🔵कार्य का मात्रक जूल है। 

🔵वैद्युत प्रतिरोधकता  का मात्रक ओम मीटर है । 🔵प्रकाश वर्ष दूरी की इकाई है।

“एक प्रकाश वर्ष वह दूरी है जो प्रकाश एक साल में तय करता है।” 

🔵पारसेक तारों की दूरियां मापने की इकाई।

“माप की वह इकाई जिसे 0.39 से गुणा करने पर इंच प्राप्त होता है, उसे सेंटीमीटर कहते हैं। 

🔵एम्पियर विद्युत धारा मापने की इकाई है। 

🔵मेगावाट विद्युत उत्पादन की इकाई है। 

🔵त्वरण की इकाई मीटर /सेकंड स्क्वायर है। 🔵बल की न्यूटन।

🔵आवेग न्यूटन – सेकंड है । 

🔵द्रव्यमान की किलोग्राम है। 

🔵दाब की पास्कल है। 

🔵वाट की शक्ति 

🔵समुद्री जहाज के गति की ईकाई नाट है। 🔵कैलोरी ऊष्मा की है। 

🔵एम्पियर धारा, वाट सामर्थ्य, वोल्ट विभवांतर की है।

🔵एंगस्ट्राम प्रकाश के तरंग दैर्ध्य की इकाई है। 

🔵क्यूसेक प्रवाह की दर, बाइट कम्प्यूटर  रिएक्टर भूकंप की तीव्रता, दाब की बार है। 

🔵डाब्सन ओजोन परत की मोटाई मापने की इकाई है। 

भौतिकी ने दिया है मापक यंत्र तथा पैमाने 

🔵महासागर में डूबी हुई वस्तुओं का पता लगाने के लिए सोनार यंत्र भौतिकी की देन है।

🔵सोनार का उपयोग नौका संचालकों द्वारा किया जाता है।

🔵ध्वनि की तीव्रता को मापने वाला यंत्र आडियो मीटर तथा, 

पवन का वेग मापने वाला यंत्र एमीनोमीटर भौतिकी की देन हैं।

🔵अमीटर विद्युत धारा तथा टैकियोमीटर नामक

यंत्र क्षैतिज दूरियों, लम्बवत उन्नयनों एवं दिशाओं का मापन कार्य करते हैं।

🔵पाइरोमीटर उच्च ताप का मापन करता है।यह वास्तव में विकिरण तापमापी होता है।

🔵इसी तरह 2000 cके ताप को जिस यंत्र से मापा जाता है उसे पूर्व विकिरण तापमापी कहा जाता है। 

🔵पाइरहिलियोमीटर का प्रयोग सोलर रेडिएशन को मापने में किया जाता है। 

🔵मैनोमीटर से गैसों का दाब मापा जाता है। सापेक्ष आर्दता हाइगरो मीटर से मापते हैं।

🔵जब कि स्प्रिंग तुला से भार नापते हैं जो भौतिक जीवन में भौतिकी की देन है। 

🔵भौतिकी की अन्य देन हैं ओडोमीटर , ओन्डो मीटर और बैरो मीटर इनका उपयोग क्रमश

🔵:वाहनों के पहियों द्वारा तय की गई दूरी, विद्युत चुम्बकीय तरंगों की आकृति नापने में,

🔵तथा वायुमंडलीय दाब मापने में किया जाता है।

दोस्तों ऐसा नहीं है कि भौतिक जीवन में भौतिकी के बस इतने ही उपयोग हैं।

कुछ और यंत्रों का प्रयोग और उनके द्वारा होने वाले लाभ की चर्चा अगले लेख में की जाएगी। 

 

धन्यवाद

KPSINGH13072018

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

About KPSINGH

मैने बचपन से निकल कर जीवन की राहों में आने के बाद सिर्फ यही सीखा है कि "जंग जारी रहनी चाहिए जीत मिले या सीख दोनों अनमोल हैं" मैं परास्नातक समाज शास्त्र की डिग्री लेने के अलावा CTET और UP TET परीक्षाएं पास की हैं ।मैंने देश के हिन्दी राष्ट्रीय समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लेखन किया है जैसे प्रतियोगिता दर्पण विज्ञान प्रगति आदि ।

View all posts by KPSINGH →

2 Comments on “भौतिक जीवन में भौतिक विज्ञान”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *