क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें?

क्या आप जानते हैं  कमाल की ये बातें? 

क्या आप जानते हैं  कमाल की ये बातें, नामक इस पोस्ट का मकसद आपको डराना नहीं

बल्कि कुछ ऐसी बातें बताना है जो होती तो कमाल की हैं

लेकिन लोग या तो उन्हें नजरअंदाज कर देते हैं या फिर याद रखने लायक ही नहीं समझते।

लेकिन दोस्तों एक सच्चाई यह भी है कि कभी कभी

10 पैसे के वाल से पूरी पांच हजार की साइकिल बेकार हो जाती है, 

यानी अगर आप प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करने वाले हैं

तो हो सकता है सब कुछ आता हो लेकिन परीक्षा में आपकी कमर वह सवाल तोड़ दे

जिसे आपने इस लायक ही कभी न समझा हो।

क्या आप जानते हैं ये कमाल की बातें नामक यह पोस्ट ऐसी ही कुछ जरूरी तथ्यों का संकलन है।

मुझे आशा ही नहीं पूरा विश्वास है कि अगर आप ने इस पोस्ट को पढना चालू करते हैं, 

तो फिर इसे आप खत्म करके ही रुकेंगे।

तो आइये दोस्तों अब देर न करके शुरू करते हैं यह पोस्ट जिसका नाम है,

क्या आप जानते हैं ये कमाल की बातें? 

कब खत्म हुआ था भारत पाक युद्ध 1965 में? 

क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें?

विश्व प्रसिद्ध 1965 का भारत पाक युद्ध संयुक्त राष्ट्र

संघ की पहल पर 22 सितम्बर 1965 को खत्म हुआ था।

यह वह युद्ध है जिसमें लगातार पाक ने मुंह की खाई थी।

अगर सचमुच संयुक्त राष्ट्र संघ बीच बचाव न करता तो इस युद्ध में एक बात यह सिद्ध हो गई थी कि

भारत का जब केवल एक वीर यानी वीर अब्दुल हमीद ही

पाक की आधी सेना ध्वस्त कर सकता है तो पूरी सेना पाकिस्तान की कब तक खैर मनाती? 

1965 भारत पाक युद्ध का सार यह है कि भारत ने

नापाक पाक के नापाक इरादों को पैरों तले रौंद दिया था।

शायद सभी को यह बात भलीभांति पता है कि यह युद्ध

आपरेशन जिबराल्टर से तब शुरु हुआ था

जब इस आपरेशन के बहाने पाकिस्तान ने घुस पैठ की नापाक कोशिश की थी। 

जम्मू-कश्मीर में उसके घुसने की इच्छा को भारतीय वीरों ने रसातल में फेंक दिया था। 

यह बात भारत के बच्चे बच्चे को को पता है कि भारत

पाक युद्ध 1965 के द्वारा भारत ने पाक की 1920वर्ग किलोमीटर जमीन छीन ली थी।

इस युद्ध में भारत के 97 टैंक नष्ट हुए थे जबकि नपक्कू

नापाक के 471 टैंक नष्ट हुए थे।

पाकिस्तानी सेना के 5259 सैनिक भी इस युद्ध में मारे गए थे। 

नेशनल जियो ग्राफिक का पहला अंक कब छपा? 

क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें?

दुनिया की सर्वाधिक लोकप्रिय और प्रसिद्ध अमेरिका की खास पत्रिका

नेशनल जियो ग्राफिक पत्रिका का प्रकाशन 22 सितम्बर 1888 में प्रारंभ हुआ था।

तभी से यह पत्रिका आज तक प्रकाशित की जा रही है।

 

क्या आप जानते हैं कि इस पत्रिका की प्रसार संख्या 65 लाख है

और यह 40 भाषाओं में प्रकाशित होती है।

इसकी 35 लाख प्रतियां केवल अमेरिका में ही खप जाती हैं। 

वर्ल्ड कार फ्री डे क्या है? 

क्याआप जानते  हैं कमाल की ये बातें?

इस दिन की शुरुआत सन 2000 में 22 सितंबर को यूरोप में की गई थी।

इस दिन दुनिया के कई देशों में निजी वाहन की बजाय सार्वजनिक वाहन इस्ते किया जाता है।

देखा जाए तो बढते पर्यावरण प्रदूषण को रोकने वाला यह भी एक कारगर उपाय हो सकता है, 

जब लोग एक दिन नहीं तब तक निजी वाहन का उपयोग न करें

जब तक इसकी जरूरत न हो। 

गोल्डेन ग्लोब रेस क्या है? 

क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें? के क्रम में हम आपको कुछ और भी बताना चाहते हैं। 

गोल्डन ग्लोब रेस समुद्री मार्ग से पूरी दुनिया का चक्कर लगाने वाली रेस है ।

इस रेस में जो भी प्रतिभागी होते हैं उन्हें अपनी नाव में केवल अकेला रहना पड़ता है।

इस रेस में 30 हजार किलोमीटर की दूरी एक ऐसी नौका में अकेले पूरा करना होता है,

जिन नौकाओं का इस्तेमाल 50 साल पहले इसकी पहली रेस में किया गया था।

रेस में इस्तेमाल होने वाली नौकाओं में संचार उपकरणों के अलावा

किसी भी तरह की आधुनिक तकनीक के इस्तेमाल की अनुमति नहीं दी जाती है।

क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें कि अभी भी बहुत बातें आगे भी जारी हैं?

जी हां दोस्तों, क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें की अगली बात यह है कि

इस साल की गोल्डन ग्लोब रेस 2018 की शुरुआत 1 जुलाई 2018 से हुई थी,

जिसमें भारत की तरफ से भारत का प्रति कर रहे हैं अभिलाष टामी। 

 

 

अभिलाष टामी का जन्म 5 फरवरी 1979 को चेटी पुझा केरल में हुआ था ।
अभिलाष भारतीय नौ सेना के पायलट हैं 
जबकि उनके पिता एक सेना निवृत्त नौ सैनिक हैं।
श्री अभिलाष सन 2000 में सेना में भर्ती हुए थे। 

श्री अभिलाष 18 वर्ष के कैरियर में अब तक 52 हजार नाटिकल मील की

समुद्री जल यात्रा कर चुके हैं।

मार्च 2013 में सागर परिक्रमा प्रोजेक्ट-2 के अंतर्गत बिना रुके दुनिया का चक्कर लगा चुके हैं ।

वह इस तरह का कारनामा करने वाले पहले भारतीय हैं।

इतना ही नहीं वह इस तरह का कारनामा करने वाले दूसरे एशियाई

तथा विश्व के 79 वें व्यक्ति हैं। 

 

इस अभियान के लिए वे
नवम्बर 2012 में विशेष रूप से तैयार किए गए नौ सेना के जहाज 
आई एन एस वी महादेई पर सवार होकर निकले हैं। 

क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें?

की अगली बात यही है कि अब तक अभिलास 151 दिन में अब तक

23 हजार नाटिकल मील की यात्रा कर चुके हैं और

क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें

कि वह इस प्रतियोगिता में अभी तक तीसरे स्थान पर बने हुए हैं। 

विदित हो कि गोल्डन ग्लोब रेस 2018 की
शुरुआत
1एक जुलाई 2018 को फ्रांस के लेस सेबल्स डि ओलोन से हुई थी।
यह भी बात कम महत्व की नहीं है कि अभिलाष जब
गोल्डन ग्लोब रेस के रूट में पर्थ से 1900 मील दूर हिंद महासागर में थे
तभी तूफान ने इन्हें घेर लिया था।
क्या आप जानते हैं कमाल की यह बातें?
कि
अब तक इस प्रतियोगिता में कुल 11लोग बने हुए हैं।
और हां. क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें
जीत भी हमारे देश के होनहार नौसेना
अधिकारी,
अभिलाष की ही होगी।
यह मेरा दावा नहीं यह मेरी आत्मा की आवाज है। 

धन्यवाद

के पी सिंह किर्तीखेड़ा 04102018

 

 

 

About KPSINGH

मैने बचपन से निकल कर जीवन की राहों में आने के बाद सिर्फ यही सीखा है कि "जंग जारी रहनी चाहिए जीत मिले या सीख दोनों अनमोल हैं" मैं परास्नातक समाज शास्त्र की डिग्री लेने के अलावा CTET और UP TET परीक्षाएं पास की हैं ।मैंने देश के हिन्दी राष्ट्रीय समाचार पत्रों और पत्रिकाओं में लेखन किया है जैसे प्रतियोगिता दर्पण विज्ञान प्रगति आदि ।

View all posts by KPSINGH →

2 Comments on “क्या आप जानते हैं कमाल की ये बातें?”

  1. Main Hoon Shakir Razaनहीं भाई नहीं जानता हूं इतना पढ़ा लिखा नहीं हूं अगर मैं ज्यादा पढ़ा लिखा होता तो एक वीडियो बनाने के लिए इतना शर्मिंदा होता कैसे भी एक कैसे भी करके एक वीडियो भेजा हूं अब सोचता हूं कि लोग अगर उसे देखेगा तो क्या बोलेगा जितने सारे दोस्त और साथी हैं टांग खींचने में बहुत आगे हैं वैसे भी मैं सभी दोस्तों से अपील करता हूं कि एसबीआई लाइव लर्निंग चैनल से जुड़कर गरीबी हटाने की कोशिश करते रहेंगे और लोगों को जोड़ने की कोशिश करूंगा मेरा गांव एक ऐसा स्थान में है जहां कोई भी रोजगार नहीं है हम लोग साल में 2 से 3 महीना घर में रहता है बागी परदेस चले जाते हैं जहां हम को 14 घंटा मेहनत करके 5000 से ₹6000 मिलता है उसने 10 से 12 परिवार को चलाना बहुत मुश्किल हो जाता है मैं आज इस चैनल से जुड़कर बहुत अच्छा महसूस करता हूं मेहनत और लगन से दिन रात काम करता रहूंगा आप लोगों से भी अभी नहीं की आप लोग भी दूसरों के बारे में सोचें और मेहनत करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *