चलो धर्म की दुकान खोलते है।

चलो धर्म की दुकान खोलते है। चलो धर्म की दुकान खोलते है। दोस्तों आपका स्वागत है।आज के खास ग़ज़ल में। जो हमारे नेता के उपर है।इस ग़ज़ल को पढ़ने के …

Read More

ना जाने मेरी दिलरुबा कैसी होगी।

ना जाने मेरी दिलरुबा कैसी होगी। ना जाने मेरी दिलरुबा कैसी होगी। दोस्तों आपका स्वागत है, फिर आज के ब्लॉग में।आज मै आपके लिए,एक खूबसूरत ग़ज़ल ले कर आया हूं।जिसे …

Read More